Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2023 · 1 min read

2692.*पूर्णिका*

2692.*पूर्णिका*
*मेहनत और करनी है *
212 212 22
मेहनत और करनी है ।
झोलियां और भरनी है ।।
नेकिया हो कर्मो से सब ।
तालियाँ और बजनी है ।।
खूबसूरत यहाँ फितरत ।
साज को और सजनी है ।।
हम सुने हम गुने बातें ।
रात भी और कटनी है ।।
जीत भी हार भी खेदू ।
जंग से और लड़नी है ।।
………..✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
06-11-23 सोमवार

195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*जिसका सुंदर स्वास्थ्य जगत में, केवल वह धनवान है (हिंदी गजल)
*जिसका सुंदर स्वास्थ्य जगत में, केवल वह धनवान है (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
मोनू बंदर का बदला
मोनू बंदर का बदला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
छोटे-मोटे कामों और
छोटे-मोटे कामों और
*प्रणय प्रभात*
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दोस्ती...
दोस्ती...
Srishty Bansal
इश्क़ में कोई
इश्क़ में कोई
लक्ष्मी सिंह
घाट किनारे है गीत पुकारे, आजा रे ऐ मीत हमारे…
घाट किनारे है गीत पुकारे, आजा रे ऐ मीत हमारे…
Anand Kumar
चुप्पी
चुप्पी
डी. के. निवातिया
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
Dr Archana Gupta
जै हनुमान
जै हनुमान
Seema Garg
"सत्य"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
परीक्षा
परीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नन्ही परी
नन्ही परी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
******** प्रेरणा-गीत *******
******** प्रेरणा-गीत *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मालूम नहीं, क्यों ऐसा होने लगा है
मालूम नहीं, क्यों ऐसा होने लगा है
gurudeenverma198
ह्रदय की स्थिति की
ह्रदय की स्थिति की
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी का एक और अच्छा दिन,
जिंदगी का एक और अच्छा दिन,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बुढ़ापा हूँ मैं
बुढ़ापा हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
"कब तक छुपाहूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
ruby kumari
यूँ तो इस पूरी क़ायनात मे यकीनन माँ जैसा कोई किरदार नहीं हो
यूँ तो इस पूरी क़ायनात मे यकीनन माँ जैसा कोई किरदार नहीं हो
पूर्वार्थ
*बताओं जरा (मुक्तक)*
*बताओं जरा (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
मन है एक बादल सा मित्र हैं हवाऐं
मन है एक बादल सा मित्र हैं हवाऐं
Bhargav Jha
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
Radhakishan R. Mundhra
मुट्ठी भर रेत है जिंदगी
मुट्ठी भर रेत है जिंदगी
Suryakant Dwivedi
मुझे इस दुनिया ने सिखाया अदाबत करना।
मुझे इस दुनिया ने सिखाया अदाबत करना।
Phool gufran
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कर्णधार
कर्णधार
Shyam Sundar Subramanian
सादिक़ तकदीर  हो  जायेगा
सादिक़ तकदीर हो जायेगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...