Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2023 · 1 min read

2671.*पूर्णिका*

2671.*पूर्णिका*
बदल जाएगी जिंदगी अपनी
212 22 212 22
🌹⚘⚘⚘⚘🌷🌷🌷
बदल जाएगी जिंदगी अपनी।
महक जाएगी जिंदगी अपनी।।
किस्मत के तो हम है धनी हरदम।
चमक जाएगी जिंदगी अपनी।।
गीत गाते मन पंछियां प्यारे ।
चहक जाएगी जिंदगी अपनी।।
ये जमीं अपनी आसमां अपना।
निखर जाएगी जिंदगी अपनी।।
खूबसूरत है ये जहाँ खेदू।
मचल जाएगी जिंदगी अपनी।।
……..✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
02-11-23 गुरुवार

118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
The only difference between dreams and reality is perfection
The only difference between dreams and reality is perfection
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
Satish Srijan
हार कभी मिल जाए तो,
हार कभी मिल जाए तो,
Rashmi Sanjay
आईना बोला मुझसे
आईना बोला मुझसे
Kanchan Advaita
एक बेटी हूं मैं
एक बेटी हूं मैं
अनिल "आदर्श"
क्या हो तुम मेरे लिए (कविता)
क्या हो तुम मेरे लिए (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
गंगा ....
गंगा ....
sushil sarna
*कमबख़्त इश्क़*
*कमबख़्त इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रश्रयस्थल
प्रश्रयस्थल
Bodhisatva kastooriya
६४बां बसंत
६४बां बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उस दर पे कदम मत रखना
उस दर पे कदम मत रखना
gurudeenverma198
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
रिश्ते सालों साल चलते हैं जब तक
रिश्ते सालों साल चलते हैं जब तक
Sonam Puneet Dubey
हमने क्या खोया
हमने क्या खोया
Dr fauzia Naseem shad
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
उड़ कर बहुत उड़े
उड़ कर बहुत उड़े
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
भ्रम
भ्रम
Kanchan Khanna
Meditation
Meditation
Ravikesh Jha
प्यार
प्यार
Anil chobisa
माँ सरस्वती वंदना
माँ सरस्वती वंदना
Karuna Goswami
तुझे पन्नों में उतार कर
तुझे पन्नों में उतार कर
Seema gupta,Alwar
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कोई वजह अब बना लो सनम तुम... फिर से मेरे करीब आ जाने को..!!
कोई वजह अब बना लो सनम तुम... फिर से मेरे करीब आ जाने को..!!
Ravi Betulwala
दिन में रात
दिन में रात
MSW Sunil SainiCENA
रखिए गीला तौलिया, मुखमंडल के पास (कुंडलिया)
रखिए गीला तौलिया, मुखमंडल के पास (कुंडलिया)
Ravi Prakash
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
Vishal babu (vishu)
मुफ़्त
मुफ़्त
नंदन पंडित
डिप्रेशन कोई मज़ाक नहीं है मेरे दोस्तों,
डिप्रेशन कोई मज़ाक नहीं है मेरे दोस्तों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...