Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Oct 2023 · 1 min read

2649.पूर्णिका

2649.पूर्णिका
🌷 हे प्रभु अपनी कृपा बनाएं रखना🌷
22 2212 122 22
हे प्रभु अपनी कृपा बनाएं रखना।
आशाओं के शमां जलाएं रखना।।
भटके ना मन कभी जहाँ मेंअपना।
दामन भी प्यार का थमाएं रखना।।
हमसे हर काम नेकियों का ही हो।
राहों में फूल बस बिछाएं रखना।।
दुनिया के संग संग हम भी चलते ।
खुशियों का रंग सब लगाएं रखना।।
जीवन खेदू कहे कहानी अपनी ।
सुंदर बगियां यहाँ सजाएं रखना।।
………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
27-10-2023शुक्रवार

185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समय आयेगा
समय आयेगा
नूरफातिमा खातून नूरी
12- अब घर आ जा लल्ला
12- अब घर आ जा लल्ला
Ajay Kumar Vimal
बेअदब कलम
बेअदब कलम
AJAY PRASAD
खड़ा चुनावों में है जो उसमें  , शरीफ- गुंडे का मेल देखो   (म
खड़ा चुनावों में है जो उसमें , शरीफ- गुंडे का मेल देखो (म
Ravi Prakash
जीने का एक अच्छा सा जज़्बा मिला मुझे
जीने का एक अच्छा सा जज़्बा मिला मुझे
अंसार एटवी
याद में
याद में
sushil sarna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*चल रे साथी यू॰पी की सैर कर आयें*🍂
*चल रे साथी यू॰पी की सैर कर आयें*🍂
Dr. Vaishali Verma
पानी  के छींटें में भी  दम बहुत है
पानी के छींटें में भी दम बहुत है
Paras Nath Jha
"वाकया"
Dr. Kishan tandon kranti
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
गुमनाम 'बाबा'
बैठकर अब कोई आपकी कहानियाँ नहीं सुनेगा
बैठकर अब कोई आपकी कहानियाँ नहीं सुनेगा
DrLakshman Jha Parimal
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
Satish Srijan
*
*"गंगा"*
Shashi kala vyas
हवाओं का मिज़ाज जो पहले था वही रहा
हवाओं का मिज़ाज जो पहले था वही रहा
Maroof aalam
जिंदगी इम्तिहानों का सफर
जिंदगी इम्तिहानों का सफर
Neeraj Agarwal
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
कवि दीपक बवेजा
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
डॉ. दीपक मेवाती
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मौन मंजिल मिली औ सफ़र मौन है ।
मौन मंजिल मिली औ सफ़र मौन है ।
Arvind trivedi
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
Shweta Soni
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
Ranjeet kumar patre
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2707.*पूर्णिका*
2707.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुफ़लिसों को मुस्कुराने दीजिए।
मुफ़लिसों को मुस्कुराने दीजिए।
सत्य कुमार प्रेमी
नजराना
नजराना
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
आज बाजार बन्द है
आज बाजार बन्द है
gurudeenverma198
चलते रहना ही जीवन है।
चलते रहना ही जीवन है।
संजय कुमार संजू
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
असफलता का घोर अन्धकार,
असफलता का घोर अन्धकार,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
Loading...