Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2023 · 1 min read

2568.पूर्णिका

2568.पूर्णिका
🌷अपनी जुबां के पक्के हम 🌷
2212 2122
अपनी जुबां के पक्के हम।
सजते समां के पक्के हम ।।
वाह कर यूं लोग कहते ।
जलते शमां के पक्के हम ।।
बाजी यहाँ जीत जाते।
मोहक अदा के पक्के हम ।।
अपना नहीं ये जमाना ।
यूं इरादे के पक्के हम ।।
देख सपने आज खेदू।
नेक है दिल के पक्के हम ।।
……….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
6-10-2123शुक्रवार

144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
Sahil Ahmad
आँसू
आँसू
Dr. Kishan tandon kranti
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
आकाश महेशपुरी
हँसने-हँसाने में नहीं कोई खामी है।
हँसने-हँसाने में नहीं कोई खामी है।
लक्ष्मी सिंह
From dust to diamond.
From dust to diamond.
Manisha Manjari
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
विमला महरिया मौज
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
अजहर अली (An Explorer of Life)
If you want to be in my life, I have to give you two news...
If you want to be in my life, I have to give you two news...
पूर्वार्थ
एक ख्वाब
एक ख्वाब
Ravi Maurya
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
DrLakshman Jha Parimal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जनतंत्र
जनतंत्र
अखिलेश 'अखिल'
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ज़िंदगी ख़त्म थोड़ी
ज़िंदगी ख़त्म थोड़ी
Dr fauzia Naseem shad
#छोटी_सी_नज़्म
#छोटी_सी_नज़्म
*Author प्रणय प्रभात*
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
कवि रमेशराज
मच्छर दादा
मच्छर दादा
Dr Archana Gupta
ज़मीर
ज़मीर
Shyam Sundar Subramanian
दोहे- उदास
दोहे- उदास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरी औकात के बाहर हैं सब
मेरी औकात के बाहर हैं सब
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जान का नया बवाल
जान का नया बवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
न दोस्ती है किसी से न आशनाई है
न दोस्ती है किसी से न आशनाई है
Shivkumar Bilagrami
🌺इक मुलाक़ात पर इतना एहतिमाल🌺⚜️
🌺इक मुलाक़ात पर इतना एहतिमाल🌺⚜️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*दुनिया  एक नाटक है  (हास्य व्यंग्य)*
*दुनिया एक नाटक है (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
गुरु
गुरु
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सविनय निवेदन
सविनय निवेदन
कृष्णकांत गुर्जर
हमें रामायण
हमें रामायण
Dr.Rashmi Mishra
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
Chunnu Lal Gupta
नवयुग का भारत
नवयुग का भारत
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...