Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2023 · 1 min read

2507.पूर्णिका

2507.पूर्णिका
🌹श्रेय लेने की होड़ मची 🌹
2122 22 22
श्रेय लेने की होड़ मची ।
पक्ष विपक्ष देखो होड़ मची ।।
मेहनत रंग यहाँ लाती ।
शान किसकी है होड़ मची ।।
राजनीति कुश्ती का मैदां ।
नाम हो अपना होड़ मची ।।
वाहवाही लूटे निकम्मा।
कौन किसके अब होड़ मची ।।
भाग्य चमके खेदू हरदम ।
आज दुनिया में होड़ मची ।।
……..✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
28-9-2023गुरुवार

132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
राजयोग आलस्य का,
राजयोग आलस्य का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गाँव का दृश्य (गीत)
गाँव का दृश्य (गीत)
प्रीतम श्रावस्तवी
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
चुनाव फिर आने वाला है।
चुनाव फिर आने वाला है।
नेताम आर सी
सच्ची दोस्ती -
सच्ची दोस्ती -
Raju Gajbhiye
आप कौन है, आप शरीर है या शरीर में जो बैठा है वो
आप कौन है, आप शरीर है या शरीर में जो बैठा है वो
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
*भाग्य विधाता देश के, शिक्षक तुम्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
*भाग्य विधाता देश के, शिक्षक तुम्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
एक तरफा प्यार
एक तरफा प्यार
Neeraj Agarwal
गाओ शुभ मंगल गीत
गाओ शुभ मंगल गीत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
खुद के वजूद की
खुद के वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
2649.पूर्णिका
2649.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेशक खताये बहुत है
बेशक खताये बहुत है
shabina. Naaz
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
नूरफातिमा खातून नूरी
"दुमका संस्मरण 3" परिवहन सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
"साहिल"
Dr. Kishan tandon kranti
जय श्री राम।
जय श्री राम।
Anil Mishra Prahari
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
Rj Anand Prajapati
राजनीति का नाटक
राजनीति का नाटक
Shyam Sundar Subramanian
बेटी और प्रकृति
बेटी और प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
ओसमणी साहू 'ओश'
केवल भाग्य के भरोसे रह कर कर्म छोड़ देना बुद्धिमानी नहीं है।
केवल भाग्य के भरोसे रह कर कर्म छोड़ देना बुद्धिमानी नहीं है।
Paras Nath Jha
#संस्मरण
#संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
रुई-रुई से धागा बना
रुई-रुई से धागा बना
TARAN VERMA
*****वो इक पल*****
*****वो इक पल*****
Kavita Chouhan
दीप की अभिलाषा।
दीप की अभिलाषा।
Kuldeep mishra (KD)
गोस्वामी तुलसीदास
गोस्वामी तुलसीदास
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
*तुम  हुए ना हमारे*
*तुम हुए ना हमारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...