Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

25)”हिन्दी भाषा”

हिंदी भाषा की चुनौती को स्वीकारना है,
साहित्य प्रेम को लिखते हुए संवारना है।

दक्ष वं अदक्ष का भेदभाव नहीं
ईमानदारी से आगे बढ़ जाना है।
भाषा के प्रति प्रेम वं सम्मान है
निर्दिष्ट लक्ष्य कल्याण है।

खुद को हिंदी में समा कर देखो,
हिंदी के ज्ञान को पहचान कर,
अदभुत शक्ति को जगा कर देखो।
होना है सफल जीवन में ग़र
भय को हरा कर देखो।
वजूद को पहचानो-
खुद को आज़मा कर देखो।
पथरों से टकरा कर,मंज़िल पाओगे कभी,
अदभुत शक्ति को जगा कर तो देखो।

हिंदी की उड़ान में इरादों को द्दृढ़ बना कर देखो,
सक्षम होंगे हर दिन, हिंदी भाषा संग,
अदभुत शक्ति जगा कर,कदम बड़ा कर देखो।

तो सार यह….
संप्रेषण कौशल की उद्वम हिंदी,
सर्वांगसुंदर राष्ट्रभाषा हिंदी,
राष्ट्र को प्यारी हिंदी,
विकसित हो रही हमारी हिंदी,
साहित्य को बढ़ा रही हिंदी।

लाभान्वित होता इंसान ग़र हिंदी अभिमान,
१४ सितम्बर का दिवस ही नहीं,
हर दिन का अरमान, हिंदी हो हम सब की पहचान।
देश विदेश में भी हो हिन्दी भाषा का सम्मान।।

✍🏻स्व-रचित/मौलिक
सपना अरोरा।

Language: Hindi
1 Like · 92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sapna Arora
View all
You may also like:
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक तेरे चले जाने से कितनी
एक तेरे चले जाने से कितनी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हम में,तुम में दूरी क्यू है
हम में,तुम में दूरी क्यू है
Keshav kishor Kumar
रामलला ! अभिनंदन है
रामलला ! अभिनंदन है
Ghanshyam Poddar
कड़वी बात~
कड़वी बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मैं सुर हूॅ॑ किसी गीत का पर साज तुम्ही हो
मैं सुर हूॅ॑ किसी गीत का पर साज तुम्ही हो
VINOD CHAUHAN
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
खोते जा रहे हैं ।
खोते जा रहे हैं ।
Dr.sima
ज़रा सी  बात में रिश्तों की डोरी  टूट कर बिखरी,
ज़रा सी बात में रिश्तों की डोरी टूट कर बिखरी,
Neelofar Khan
बेटियाँ
बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
फितरत न कभी सीखा
फितरत न कभी सीखा
Satish Srijan
नियति को यही मंजूर था
नियति को यही मंजूर था
Harminder Kaur
पिता के पदचिह्न (कविता)
पिता के पदचिह्न (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
रंगोली
रंगोली
Neelam Sharma
नाटक नौटंकी
नाटक नौटंकी
surenderpal vaidya
जब आसमान पर बादल हों,
जब आसमान पर बादल हों,
Shweta Soni
*चलता रहता है समय, ढलते दृश्य तमाम (कुंडलिया)*
*चलता रहता है समय, ढलते दृश्य तमाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"बेहतर"
Dr. Kishan tandon kranti
■ आज का महाज्ञान 😊
■ आज का महाज्ञान 😊
*प्रणय प्रभात*
नाचणिया स नाच रया, नचावै नटवर नाथ ।
नाचणिया स नाच रया, नचावै नटवर नाथ ।
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
Ashish shukla
स्त्री जब
स्त्री जब
Rachana
सत्य असत्य से कभी
सत्य असत्य से कभी
Dr fauzia Naseem shad
तख्तापलट
तख्तापलट
Shekhar Chandra Mitra
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुछ लोग कहते हैं कि मुहब्बत बस एक तरफ़ से होती है,
कुछ लोग कहते हैं कि मुहब्बत बस एक तरफ़ से होती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कल?
कल?
Neeraj Agarwal
सताता है मुझको मेरा ही साया
सताता है मुझको मेरा ही साया
Madhuyanka Raj
गणेश चतुर्थी के शुभ पावन अवसर पर सभी को हार्दिक मंगल कामनाओं के साथ...
गणेश चतुर्थी के शुभ पावन अवसर पर सभी को हार्दिक मंगल कामनाओं के साथ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...