Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2023 · 1 min read

2485.पूर्णिका

2485.पूर्णिका
🌹बात बनती बिगड़ती है🌹
2122 2122
बात बनती बिगड़ती है ।
रोज दुनिया झगड़ती है ।।
सीख ले जीना यहाँ तू ।
जिंदगी भी रगड़ती है ।।
ये तमाशा मौज करती।
शांत रहती कड़कती है ।।
गीत गाते हम तराना ।
आग कैसे भड़कती है ।।
प्यार कर ले आज खेदू।
देख धड़कन धड़कती है ।।
……✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
20-9-2023बुधवार

258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुबह की एक कप चाय,
सुबह की एक कप चाय,
Neerja Sharma
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि
हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि
Shashi kala vyas
दुख
दुख
Rekha Drolia
कलयुग और महाभारत
कलयुग और महाभारत
Atul "Krishn"
💐प्रेम कौतुक-395💐
💐प्रेम कौतुक-395💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"इंसानियत की लाज"
Dr. Kishan tandon kranti
मन की बात
मन की बात
पूर्वार्थ
छुपा सच
छुपा सच
Mahender Singh
जलाना आग में ना ही मुझे मिट्टी में दफनाना
जलाना आग में ना ही मुझे मिट्टी में दफनाना
VINOD CHAUHAN
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Sanjay ' शून्य'
एक दिन में इस कदर इस दुनिया में छा जाऊंगा,
एक दिन में इस कदर इस दुनिया में छा जाऊंगा,
कवि दीपक बवेजा
जय अयोध्या धाम की
जय अयोध्या धाम की
Arvind trivedi
चाय (Tea)
चाय (Tea)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
bharat gehlot
नज़र में मेरी तुम
नज़र में मेरी तुम
Dr fauzia Naseem shad
क्या होगा लिखने
क्या होगा लिखने
Suryakant Dwivedi
सुख-साधन से इतर मुझे तुम दोगे क्या?
सुख-साधन से इतर मुझे तुम दोगे क्या?
Shweta Soni
#लघुकथा :--
#लघुकथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन में ठहरे हर पतझड़ का बस अंत हो
जीवन में ठहरे हर पतझड़ का बस अंत हो
Dr Tabassum Jahan
आज सबको हुई मुहब्बत है।
आज सबको हुई मुहब्बत है।
सत्य कुमार प्रेमी
*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*
*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
वैसे अपने अपने विचार है
वैसे अपने अपने विचार है
शेखर सिंह
अजनबी
अजनबी
Shyam Sundar Subramanian
Feel of love
Feel of love
Shutisha Rajput
*** मन बावरा है....! ***
*** मन बावरा है....! ***
VEDANTA PATEL
अदब
अदब
Dr Parveen Thakur
तुम्हारी है जुस्तजू
तुम्हारी है जुस्तजू
Surinder blackpen
माया का रोग (व्यंग्य)
माया का रोग (व्यंग्य)
नवीन जोशी 'नवल'
घमंड
घमंड
Ranjeet kumar patre
Loading...