Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2023 · 1 min read

2450.पूर्णिका

2450.पूर्णिका
🌹पाना था पा लिया🌹
22 2212
पाना था पा लिया।
सबका मन भा लिया।।
आता जाता नहीं ।
गाना था गा लिया ।।
था जो कुछ किस्मत में ।
खाना था खा लिया ।।
प्यार मिले प्यार से।
रोज सितम ढ़ा लिया।।
बांटे खेदू खुशी ।
जग से कुछ ना लिया ।।
………….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
28-8-2023सोमवार

1 Like · 198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुस्सा सातवें आसमान पर था
गुस्सा सातवें आसमान पर था
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बेशर्मी के हौसले
बेशर्मी के हौसले
RAMESH SHARMA
' पंकज उधास '
' पंकज उधास '
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
The_dk_poetry
कल की फिक्र में
कल की फिक्र में
shabina. Naaz
मोहमाया के जंजाल में फंसकर रह गया है इंसान
मोहमाया के जंजाल में फंसकर रह गया है इंसान
Rekha khichi
3079.*पूर्णिका*
3079.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सताती दूरियाँ बिलकुल नहीं उल्फ़त हृदय से हो
सताती दूरियाँ बिलकुल नहीं उल्फ़त हृदय से हो
आर.एस. 'प्रीतम'
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
शेखर सिंह
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
खुद के करीब
खुद के करीब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🙅घनघोर विकास🙅
🙅घनघोर विकास🙅
*Author प्रणय प्रभात*
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
भीनी भीनी आ रही सुवास है।
भीनी भीनी आ रही सुवास है।
Omee Bhargava
कैसे भूल जाएं...
कैसे भूल जाएं...
Er. Sanjay Shrivastava
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
अनिल कुमार
इ इमली से
इ इमली से
Dr. Kishan tandon kranti
कितना प्यारा कितना पावन
कितना प्यारा कितना पावन
जगदीश लववंशी
"मौत की सजा पर जीने की चाह"
Pushpraj Anant
* रचो निज शौर्य से अनुपम,जवानी की कहानी को【मुक्तक】*
* रचो निज शौर्य से अनुपम,जवानी की कहानी को【मुक्तक】*
Ravi Prakash
चांद पर उतरा
चांद पर उतरा
Dr fauzia Naseem shad
हौंसले को समेट कर मेघ बन
हौंसले को समेट कर मेघ बन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरी जन्नत
मेरी जन्नत
Satish Srijan
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
सत्य कुमार प्रेमी
उसकी जुबाँ की तरकश में है झूठ हजार
उसकी जुबाँ की तरकश में है झूठ हजार
'अशांत' शेखर
जो व्यक्ति अपने मन को नियंत्रित कर लेता है उसको दूसरा कोई कि
जो व्यक्ति अपने मन को नियंत्रित कर लेता है उसको दूसरा कोई कि
Rj Anand Prajapati
ये कैसा घर है. . . .
ये कैसा घर है. . . .
sushil sarna
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...