Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2024 · 1 min read

24/227. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

24/227. छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
🌷 सुनता के दीया बारे कर🌷
22 22 22 22
सुनता के दीया बारे कर ।
जिनगी ला सबके तारे कर।।
सिरतोन बदल जाथे दुनिया।
तै कोनो ला झन मारे कर ।।
गुरतुर बोली मस्त रस घोरय।
गोहार इहां झन पारे कर ।।
नदिया नरवा हर जिनगानी ।
कारी कचरा ला झारे कर ।।
लेथे देथे पाथे खेदू।
मुंह अपन झन ओथारे कर ।।
……..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
31-01-2024बुधवार

113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अधखिली यह कली
अधखिली यह कली
gurudeenverma198
जिस कदर उम्र का आना जाना है
जिस कदर उम्र का आना जाना है
Harminder Kaur
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Sampada
आज का नेता
आज का नेता
Shyam Sundar Subramanian
शादी की अंगूठी
शादी की अंगूठी
Sidhartha Mishra
मैं बूढ़ा नहीं
मैं बूढ़ा नहीं
Dr. Rajeev Jain
The destination
The destination
Bidyadhar Mantry
धर्म सवैया
धर्म सवैया
Neelam Sharma
दहेज ना लेंगे
दहेज ना लेंगे
भरत कुमार सोलंकी
आ अब लौट चलें.....!
आ अब लौट चलें.....!
VEDANTA PATEL
पिताजी हमारे
पिताजी हमारे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
सपनो में देखूं तुम्हें तो
सपनो में देखूं तुम्हें तो
Aditya Prakash
मेरा ब्लॉग अपडेट दिनांक 2 अक्टूबर 2023
मेरा ब्लॉग अपडेट दिनांक 2 अक्टूबर 2023
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं कौन हूं
मैं कौन हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
हे मृत्यु तैयार यदि तू आने को प्रसन्न मुख आ द्वार खुला है,
हे मृत्यु तैयार यदि तू आने को प्रसन्न मुख आ द्वार खुला है,
Vishal babu (vishu)
!! वो बचपन !!
!! वो बचपन !!
Akash Yadav
"दिल बेकरार रहेगा"
Dr. Kishan tandon kranti
2846.*पूर्णिका*
2846.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
मानक लाल मनु
दुआएं
दुआएं
Santosh Shrivastava
सफल लोगों की अच्छी आदतें
सफल लोगों की अच्छी आदतें
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
दुःख, दर्द, द्वन्द्व, अपमान, अश्रु
दुःख, दर्द, द्वन्द्व, अपमान, अश्रु
Shweta Soni
"" *जब तुम हमें मिले* ""
सुनीलानंद महंत
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
Ranjeet kumar patre
वो मुझसे आज भी नाराज है,
वो मुझसे आज भी नाराज है,
शेखर सिंह
चलती जग में लेखनी, करती रही कमाल(कुंडलिया)
चलती जग में लेखनी, करती रही कमाल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
घूर
घूर
Dr MusafiR BaithA
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
Aarti sirsat
लोग मुझे अक्सर अजीज समझ लेते हैं
लोग मुझे अक्सर अजीज समझ लेते हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...