Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

24)”मुस्करा दो”

क्यूँ बैठे हो उदास,बीत जाएगा यह आज,
कल तुमने देखा,आज सहेजा, कल किसने देखा..
न कोई राज़, न कोई साज़, सुलझ जाएँगे काज।
मन को समझा लो,तुम मुस्करा दो….

मुश्किल आन पड़ी तो क्या हुआ?
मन को सींचो ग़र गड़ा हुआ।
रात कब रुकी न सवेरा रूका हुआ।
वक्त ही तो है,पहचान लो।
तुम मुस्करा दो….

परिस्थितियाँ लेती है इम्तिहान,
सांसारिक बंधन है प्रधान।
शक्ति का कर लिया ग़र आग़ाज़,
दुनिया हिला देगा यह अन्दाज़।
दर्द को बनाओ दवा,सितम ढा लो,
समझ से कैद दश्त की छुड़ा लो।
क्यूँ बैठे हो उदास,बीत जाएगा आज
बस…
तुम मुस्करा दो….

अपना पराया,दुनिया ने ही दिखाया,
ख़ुद पर ग़र भरोसा, फिर न टूट पाया।
जाने अनजाने,रास्ते सामने,खड़े दीवाने,
मंज़िल के साथी सारे,कोना कोना पहचानें।

पहचान बना लो, ख़ुद को संवार लो,
न हो उदास,बीत जाएगा आज,
मुश्किलें आयेंगी,मुश्किलें जायेंगी,
मन को समझा लो,तुम मुस्करा दो…

✍🏻स्व-रचित/मौलिक
सपना अरोरा।

Language: Hindi
3 Likes · 86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sapna Arora
View all
You may also like:
परम सत्य
परम सत्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चला मुरारी हीरो बनने ....
चला मुरारी हीरो बनने ....
Abasaheb Sarjerao Mhaske
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
sushil sarna
पराक्रम दिवस
पराक्रम दिवस
Bodhisatva kastooriya
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
नूरफातिमा खातून नूरी
*गली-गली में घूम रहे हैं, यह कुत्ते आवारा (गीत)*
*गली-गली में घूम रहे हैं, यह कुत्ते आवारा (गीत)*
Ravi Prakash
*
*"मुस्कराने की वजह सिर्फ तुम्हीं हो"*
Shashi kala vyas
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
कागज़ से बातें
कागज़ से बातें
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
Shivkumar Bilagrami
Kabhi kitabe pass hoti hai
Kabhi kitabe pass hoti hai
Sakshi Tripathi
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
अनिल कुमार
क्या पता मैं शून्य न हो जाऊं
क्या पता मैं शून्य न हो जाऊं
The_dk_poetry
संन्यास के दो पक्ष हैं
संन्यास के दो पक्ष हैं
हिमांशु Kulshrestha
2624.पूर्णिका
2624.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सच्चाई का रास्ता
सच्चाई का रास्ता
Sunil Maheshwari
प्रिय भतीजी के लिए...
प्रिय भतीजी के लिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
जब सावन का मौसम आता
जब सावन का मौसम आता
लक्ष्मी सिंह
संवेदना की बाती
संवेदना की बाती
Ritu Asooja
बेटियाँ
बेटियाँ
Raju Gajbhiye
अतिथि देवोभवः
अतिथि देवोभवः
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
🙅आज पता चला🙅
🙅आज पता चला🙅
*प्रणय प्रभात*
कुछ पल
कुछ पल
Mahender Singh
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
विमला महरिया मौज
बहुत खूबसूरत सुबह हो गई है।
बहुत खूबसूरत सुबह हो गई है।
surenderpal vaidya
Loading...