Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2023 · 1 min read

2384.पूर्णिका

2384.पूर्णिका
❤दिल मेरा तोड़ जाओगे सोचा न था💙
22 2212 22 2212
दिल मेरा तोड़ जाओगे सोचा न था ।
मुझको रोज तड़फाओगे सोचा न था ।।
सच अपनी जान से ज्यादा समझा तुझे ।
बालम तुम मुकर जाओगे सोचा न था ।।
बादल आ बरसते चाहत रखते यहाँ ।
मुझ पर रौब बरसाओगे सोचा न था ।।
खिलती है जिंदगी यूं गुलशन की तरह ।
करके वीरान जाओगे सोचा न था ।।
करते हरदम वफा खेदू दुनिया कहाँ ।
कैसे कर सहन पाओगे सोचा न था ।।
………….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
8-7-2023शनिवार

113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रमेय
प्रमेय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"संगठन परिवार है" एक जुमला या झूठ है। संगठन परिवार कभी नहीं
Sanjay ' शून्य'
*अब न वो दर्द ,न वो दिल ही ,न वो दीवाने रहे*
*अब न वो दर्द ,न वो दिल ही ,न वो दीवाने रहे*
sudhir kumar
बस तुम
बस तुम
Rashmi Ranjan
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
#शुभ_दिवस
#शुभ_दिवस
*प्रणय प्रभात*
(16) आज़ादी पर
(16) आज़ादी पर
Kishore Nigam
*कैसे हम आज़ाद हैं?*
*कैसे हम आज़ाद हैं?*
Dushyant Kumar
हमनवा
हमनवा
Bodhisatva kastooriya
मन की पीड़ा
मन की पीड़ा
पूर्वार्थ
*आई सदियों बाद है, राम-नाम की लूट (कुंडलिया)*
*आई सदियों बाद है, राम-नाम की लूट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"तर्के-राबता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गीत
गीत
सत्य कुमार प्रेमी
2 जून की रोटी की खातिर जवानी भर मेहनत करता इंसान फिर बुढ़ापे
2 जून की रोटी की खातिर जवानी भर मेहनत करता इंसान फिर बुढ़ापे
Harminder Kaur
आदिपुरुष आ बिरोध
आदिपुरुष आ बिरोध
Acharya Rama Nand Mandal
नरसिंह अवतार
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
देख लेते
देख लेते
Dr fauzia Naseem shad
2471पूर्णिका
2471पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेलन टांग दे!
बेलन टांग दे!
Dr. Mahesh Kumawat
जुमर-ए-अहबाब के बीच तेरा किस्सा यूं छिड़ गया,
जुमर-ए-अहबाब के बीच तेरा किस्सा यूं छिड़ गया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अपनी अपनी सोच
अपनी अपनी सोच
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तुम अगर कविता बनो तो, गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो, गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
डर
डर
अखिलेश 'अखिल'
जिंदगी भी एक सांसों का रैन बसेरा है
जिंदगी भी एक सांसों का रैन बसेरा है
Neeraj Agarwal
किस कदर
किस कदर
हिमांशु Kulshrestha
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
Rj Anand Prajapati
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
Dr Tabassum Jahan
शीश झुकाएं
शीश झुकाएं
surenderpal vaidya
Loading...