Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 1 min read

2379.पूर्णिका

2379.पूर्णिका
⚘मेरी आँखों में तू ⚘
22 22 22
मेरे दिल में है तू ।
मेरी आँखों में तू ।।
तू ही मेरी मंजिल।
मेरे साँसों में तू ।।
हूँ दीवाना पागल ।
चाहत बाँहों में तू ।।
प्यार जहाँ प्यार वहाँ ।
हरदम आहों में तू ।।
निखरे दुनिया खेदू ।
बस हर बातों में तू ।।
……….✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
5-7-2023बुधवार

195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्य का संधान
सत्य का संधान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
Ravi Prakash
"मनुष्य"
Dr. Kishan tandon kranti
उदास रात सितारों ने मुझसे पूछ लिया,
उदास रात सितारों ने मुझसे पूछ लिया,
Neelofar Khan
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
राम लला की हो गई,
राम लला की हो गई,
sushil sarna
ये बेजुबान हैं
ये बेजुबान हैं
Sonam Puneet Dubey
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
Sukoon
तेरे जाने के बाद ....
तेरे जाने के बाद ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
3153.*पूर्णिका*
3153.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"कुछ तो गुना गुना रही हो"
Lohit Tamta
इक रोज़ हम भी रुखसत हों जाएंगे,
इक रोज़ हम भी रुखसत हों जाएंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
Keshav kishor Kumar
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
Rj Anand Prajapati
हर जमीं का आसमां होता है।
हर जमीं का आसमां होता है।
Taj Mohammad
ऐसा क्यों होता है..?
ऐसा क्यों होता है..?
Dr Manju Saini
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
राम से जी जोड़ दे
राम से जी जोड़ दे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ଅତିଥି ର ବାସ୍ତବତା
ଅତିଥି ର ବାସ୍ତବତା
Bidyadhar Mantry
This generation was full of gorgeous smiles and sorrowful ey
This generation was full of gorgeous smiles and sorrowful ey
पूर्वार्थ
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
Praveen Sain
हर मंदिर में दीप जलेगा
हर मंदिर में दीप जलेगा
Ansh
स्वयं पर विश्वास
स्वयं पर विश्वास
Dr fauzia Naseem shad
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
Dr Pranav Gautam
प्रकृति की ओर
प्रकृति की ओर
जगदीश लववंशी
गुरुर
गुरुर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*नववर्ष*
*नववर्ष*
Dr. Priya Gupta
दशमेश के ग्यारह वचन
दशमेश के ग्यारह वचन
Satish Srijan
■ सुबह-सुबह का ज्ञान।।
■ सुबह-सुबह का ज्ञान।।
*प्रणय प्रभात*
मां
मां
Dr Parveen Thakur
Loading...