Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2023 · 1 min read

2353.पूर्णिका

2353.पूर्णिका
🌹सुखी रहे संसार चाहते 🌹
1212 22 1212
यहाँ वहाँ सब यार चाहते ।
सुखी रहे संसार चाहते ।।
करें न कुछ हम बात भी बने।
खुशी मिले संसार चाहते ।।
नए पुराने रंग में घुले ।
मिठ्ठू मियां संसार चाहते ।।
हमें पता है योग जिंदगी ।
निरोगता संसार चाहते ।।
धनी वही खेदू मस्त व्यस्त है ।
मस्ती भरा संसार चाहते हैं ।।
………….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
21-6-2023 बुधवार
योग दिवस

415 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
Seema gupta,Alwar
बेटा
बेटा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ଆମ ଘରର ଅଗଣା
ଆମ ଘରର ଅଗଣା
Bidyadhar Mantry
जीवन में जब तक रहें, साँसें अपनी चार।
जीवन में जब तक रहें, साँसें अपनी चार।
Suryakant Dwivedi
..
..
*प्रणय प्रभात*
आस्था विश्वास पर ही, यह टिकी है दोस्ती।
आस्था विश्वास पर ही, यह टिकी है दोस्ती।
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
बँटवारे का दर्द
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
*खाना लाठी गोलियाँ, आजादी के नाम* *(कुंडलिया)*
*खाना लाठी गोलियाँ, आजादी के नाम* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बदनाम
बदनाम
Neeraj Agarwal
"प्रार्थना"
Dr. Kishan tandon kranti
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
Anand Kumar
बूँद-बूँद से बनता सागर,
बूँद-बूँद से बनता सागर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शांति चाहिये...? पर वो
शांति चाहिये...? पर वो "READY MADE" नहीं मिलती "बनानी" पड़ती
पूर्वार्थ
स्त्रियाँ
स्त्रियाँ
Shweta Soni
।2508.पूर्णिका
।2508.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
राजनीति में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मूर्खता है
राजनीति में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मूर्खता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सावन में संदेश
सावन में संदेश
Er.Navaneet R Shandily
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
खैरात में मिली
खैरात में मिली
हिमांशु Kulshrestha
World stroke day
World stroke day
Tushar Jagawat
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
Neelam Sharma
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
Ajay Kumar Vimal
बचपन कितना सुंदर था।
बचपन कितना सुंदर था।
Surya Barman
शब्द : दो
शब्द : दो
abhishek rajak
तितली के तेरे पंख
तितली के तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
Rachna Mishra
अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
ruby kumari
माटी
माटी
जगदीश लववंशी
Loading...