Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Oct 2023 · 1 min read

23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 माटी हमर महतारी हरे 🌷
22 212 2212
माटी हमर महतारी हरे।
सिरतो सुघ्घर चिंहारी हरे।।
सुख दुख अउ मया पीरा इहां।
महकत अपन फुलवारी हरे।।
रोज बहावत पसीना जिहां ।
संगी सफर हितकारी हरे।।
हाँसत देखत कुलकत रतिहा।
हिरदे अपन बलिहारी हरे।।
रखथे ये पक्का खेदू वचन ।
जिनगी भर संगवारी हरे।।
…………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
26-10-2023गुरुवार

167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रतिशोध
प्रतिशोध
Shyam Sundar Subramanian
“एक नई सुबह आयेगी”
“एक नई सुबह आयेगी”
पंकज कुमार कर्ण
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
शेखर सिंह
"क्षमायाचना"
Dr. Kishan tandon kranti
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अमीरों का देश
अमीरों का देश
Ram Babu Mandal
*साला-साली मानिए ,सारे गुण की खान (हास्य कुंडलिया)*
*साला-साली मानिए ,सारे गुण की खान (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
काव्य का आस्वादन
काव्य का आस्वादन
कवि रमेशराज
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"स्वप्न".........
Kailash singh
तुम हासिल ही हो जाओ
तुम हासिल ही हो जाओ
हिमांशु Kulshrestha
ज़िंदगी का नशा
ज़िंदगी का नशा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
न शायर हूँ, न ही गायक,
न शायर हूँ, न ही गायक,
Satish Srijan
आप आज शासक हैं
आप आज शासक हैं
DrLakshman Jha Parimal
💤 ये दोहरा सा किरदार 💤
💤 ये दोहरा सा किरदार 💤
Dr Manju Saini
प्रत्याशी को जाँचकर , देना  अपना  वोट
प्रत्याशी को जाँचकर , देना अपना वोट
Dr Archana Gupta
3184.*पूर्णिका*
3184.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*रंगों का ज्ञान*
*रंगों का ज्ञान*
Dushyant Kumar
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
सम्मान से सम्मान
सम्मान से सम्मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
हर राह सफर की।
हर राह सफर की।
Taj Mohammad
माटी कहे पुकार
माटी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
गलत और सही
गलत और सही
Radhakishan R. Mundhra
धीरे धीरे बदल रहा
धीरे धीरे बदल रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नवगीत : अरे, ये किसने गाया गान
नवगीत : अरे, ये किसने गाया गान
Sushila joshi
"जीवन अब तक हुआ
*Author प्रणय प्रभात*
दूरी जरूरी
दूरी जरूरी
Sanjay ' शून्य'
खुद से भी सवाल कीजिए
खुद से भी सवाल कीजिए
Mahetaru madhukar
Loading...