Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Oct 2023 · 1 min read

23/58.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/58.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷भाजी पाला होगे🌷
22 22 22
भाजी पाला होगे।
पानी काला होगे।।
सुनता ला नी जानय।
मन मतवाला होगे।।
दोष किस्मत ला देथे ।
गड़बड़ झाला होगे।।
करही सुरता सुन ले।
काम निराला होगे।।
चतवारे कब खेदू।
बस वरमाला होगे।।
……….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
22-10-2023रविवार

88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
Suraj kushwaha
3178.*पूर्णिका*
3178.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कहीं  पानी  ने  क़हर  ढाया......
कहीं पानी ने क़हर ढाया......
shabina. Naaz
जो कुछ भी है आज है,
जो कुछ भी है आज है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सच ज़िंदगी और जीवन में अंतर हैं
सच ज़िंदगी और जीवन में अंतर हैं
Neeraj Agarwal
दासता
दासता
Bodhisatva kastooriya
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
"मुस्कान"
Dr. Kishan tandon kranti
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
Abhishek Soni
,...ठोस व्यवहारिक नीति
,...ठोस व्यवहारिक नीति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
हिम्मत कभी न हारिए
हिम्मत कभी न हारिए
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"बहरे अगर हेडफोन, ईयरफोन या हियरिंग मशीन का उपयोग करें तो और
*Author प्रणय प्रभात*
शुभकामना संदेश
शुभकामना संदेश
Rajni kapoor
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
Neelam Sharma
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
संजय कुमार संजू
सौभाग्य मिले
सौभाग्य मिले
Pratibha Pandey
हमको बच्चा रहने दो।
हमको बच्चा रहने दो।
Manju Singh
मन की परतों में छुपे ,
मन की परतों में छुपे ,
sushil sarna
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
Rajesh Kumar Arjun
"गंगा माँ बड़ी पावनी"
Ekta chitrangini
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी  !
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी !
DrLakshman Jha Parimal
खुद की नज़रों में भी
खुद की नज़रों में भी
Dr fauzia Naseem shad
अब मत करो ये Pyar और respect की बातें,
अब मत करो ये Pyar और respect की बातें,
Vishal babu (vishu)
मुझे कृष्ण बनना है मां
मुझे कृष्ण बनना है मां
Surinder blackpen
आकर्षण मृत्यु का
आकर्षण मृत्यु का
Shaily
दीपावली त्यौहार
दीपावली त्यौहार
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...