Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Oct 2023 · 1 min read

23/37.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/37.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 तोर बर मया हवे भारी 🌷
212 1212 22
तोर बर मया हवे भारी ।
संगवार मन करय चारी।।
छ्छलथे मितान नार इहां ।
देख ले हमर सुघ्घर बारी ।।
मेहनत करय बनय जिनगी ।
अपन तैं निभा वफादारी ।।
चाहथे नवा नवा दुनिया।
अंधियार पाख उजियारी ।।
सोच जौन तौन कर खेदू ।
करत रथन काम सरकारी ।।
…….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
19-10-2023गुरुवार

226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर  टूटा है
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर टूटा है
कृष्णकांत गुर्जर
दुःख इस बात का नहीं के तुमने बुलाया नहीं........
दुःख इस बात का नहीं के तुमने बुलाया नहीं........
shabina. Naaz
आपस में अब द्वंद है, मिलते नहीं स्वभाव।
आपस में अब द्वंद है, मिलते नहीं स्वभाव।
Manoj Mahato
यूँ तो समुंदर बेवजह ही बदनाम होता है
यूँ तो समुंदर बेवजह ही बदनाम होता है
'अशांत' शेखर
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
वक्त से गुज़ारिश
वक्त से गुज़ारिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क्यू ना वो खुदकी सुने?
क्यू ना वो खुदकी सुने?
Kanchan Alok Malu
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
Sukoon
आलाप
आलाप
Punam Pande
"कोहरा रूपी कठिनाई"
Yogendra Chaturwedi
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
Chunnu Lal Gupta
जब एक ज़िंदगी है
जब एक ज़िंदगी है
Dr fauzia Naseem shad
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
कितनी ही गहरी वेदना क्यूं न हो
कितनी ही गहरी वेदना क्यूं न हो
Pramila sultan
दिव्य बोध।
दिव्य बोध।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हवाओं का मिज़ाज जो पहले था वही रहा
हवाओं का मिज़ाज जो पहले था वही रहा
Maroof aalam
खालीपन
खालीपन
करन ''केसरा''
कीमत
कीमत
Paras Nath Jha
■ आज का विचार-
■ आज का विचार-
*Author प्रणय प्रभात*
ਯਾਦਾਂ ਤੇ ਧੁਖਦੀਆਂ ਨੇ
ਯਾਦਾਂ ਤੇ ਧੁਖਦੀਆਂ ਨੇ
Surinder blackpen
3233.*पूर्णिका*
3233.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
Stuti tiwari
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
कवि दीपक बवेजा
तेरी मुस्कराहटों का राज क्या  है
तेरी मुस्कराहटों का राज क्या है
Anil Mishra Prahari
निरोगी काया
निरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
Dr MusafiR BaithA
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
गिनती
गिनती
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"सूत्र-सिद्धान्त"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...