Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2023 · 1 min read

23/135.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/135.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 अपन करम ला करत रबे🌷
22 22 22 2
अपन करम ला करत रबे।
रोज मया ला भरत रबे।।
दुनिया तोर इहां बनही ।
जिनगीभर तै तरत रबे ।।
संगी बन कोन हमर हवे ।
देखे न गुने मरत रबे ।।
सुघ्घर कमावत खावत रा।
चिंता मा झन घुरत रबे।।
अंजोर बगरही खेदू।
दीया कस तै बरत रबे ।।
……..✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
12-11-2023रविवार(देवारी )

202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी खामोशियां.. कभी मायूसिया..
कभी खामोशियां.. कभी मायूसिया..
Ravi Betulwala
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
surenderpal vaidya
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
पूर्वार्थ
अनन्त तक चलना होगा...!!!!
अनन्त तक चलना होगा...!!!!
Jyoti Khari
गठबंधन INDIA
गठबंधन INDIA
Bodhisatva kastooriya
मुझे प्यार हुआ था
मुझे प्यार हुआ था
Nishant Kumar Mishra
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
Shweta Soni
3027.*पूर्णिका*
3027.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुली
कुली
Mukta Rashmi
माँ को अर्पित कुछ दोहे. . . .
माँ को अर्पित कुछ दोहे. . . .
sushil sarna
*बदलना और मिटना*
*बदलना और मिटना*
Sûrëkhâ
छूटा उसका हाथ
छूटा उसका हाथ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं (गीत)*
*चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
माॅं की कशमकश
माॅं की कशमकश
Harminder Kaur
समंदर
समंदर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
क्षितिज के उस पार
क्षितिज के उस पार
Suryakant Dwivedi
तेरी ख़ामोशी
तेरी ख़ामोशी
Anju ( Ojhal )
प्रतिशोध
प्रतिशोध
Shyam Sundar Subramanian
मिष्ठी के लिए सलाद
मिष्ठी के लिए सलाद
Manu Vashistha
बंद पंछी
बंद पंछी
लक्ष्मी सिंह
तू तो होगी नहीं....!!!
तू तो होगी नहीं....!!!
Kanchan Khanna
संगीत
संगीत
Neeraj Agarwal
ये कैसे आदमी है
ये कैसे आदमी है
gurudeenverma198
अगर हो हिंदी का देश में
अगर हो हिंदी का देश में
Dr Manju Saini
है अभी भी वक़्त प्यारे, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच
है अभी भी वक़्त प्यारे, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
"सत्य"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं भी साथ चला करता था
मैं भी साथ चला करता था
VINOD CHAUHAN
*
*"हिंदी"*
Shashi kala vyas
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...