Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2023 · 1 min read

23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका

23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
🌷 मरना होगे सबला का कहिबे🌷
22 22 22 22 2
मरना होगे सबला का कहिबे।
मरही जनता हमला का कहिबे।।
होथे अनते तनते तुम देखव ।
बेमौसम बरसा जी का कहिबे।।
मस्त तरिया नरवा घाट घटौंदा।
रोज नहाथे डूबक का कहिबे।।
राज करइया करत रथे भइया ।
भरथे अपन तिजोरी का कहिबे ।।
नंगत खाथे खावन दे खेदू ।
भूखमर्रा भूख मरय का कहिबे।।
………….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
14-10-2023शनिवार

263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“ख़ामोश सा मेरे मन का शहर,
“ख़ामोश सा मेरे मन का शहर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*देह बनाऊॅं धाम अयोध्या, मन में बसते राम हों (गीत)*
*देह बनाऊॅं धाम अयोध्या, मन में बसते राम हों (गीत)*
Ravi Prakash
तुम्हें क्या लाभ होगा, ईर्ष्या करने से
तुम्हें क्या लाभ होगा, ईर्ष्या करने से
gurudeenverma198
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
Rj Anand Prajapati
प्याली से चाय हो की ,
प्याली से चाय हो की ,
sushil sarna
शिव-शक्ति लास्य
शिव-शक्ति लास्य
ऋचा पाठक पंत
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
सोच बदलनी होगी
सोच बदलनी होगी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुझे मुहब्बत सिखाते जाते
मुझे मुहब्बत सिखाते जाते
Monika Arora
04/05/2024
04/05/2024
Satyaveer vaishnav
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
Atul "Krishn"
"कमल"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
Paras Nath Jha
रोम रोम है पुलकित मन
रोम रोम है पुलकित मन
sudhir kumar
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
Neelam Sharma
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
"एक सुबह मेघालय की"
अमित मिश्र
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
विषय:गुलाब
विषय:गुलाब
Harminder Kaur
■ सकारात्मकता...
■ सकारात्मकता...
*प्रणय प्रभात*
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
शेखर सिंह
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
अनिल कुमार
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
Shreedhar
कॉटेज हाउस
कॉटेज हाउस
Otteri Selvakumar
13. पुष्पों की क्यारी
13. पुष्पों की क्यारी
Rajeev Dutta
जुनूनी दिल
जुनूनी दिल
Sunil Maheshwari
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
Lokesh Singh
स्नेह - प्यार की होली
स्नेह - प्यार की होली
Raju Gajbhiye
Loading...