Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2023 · 1 min read

2294.पूर्णिका

2294.पूर्णिका
🌹हम कोयल सी तान करते🌹
22 22 2122
हम कोयल सी तान करते ।
यार हवाले जान करते ।।
दिल साफ जहाँ बात मीठी ।
आज सयाने मान करते ।।
आते जाते लोग देखो ।
उठते बैठते ध्यान करते।।
सच कठिन नहीं राह कोई।
पूरे हर अरमान करते ।।
कितना सुंदर प्यार खेदू।
यूं दुनिया कुरबान करते ।।
…………✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश ”
9-5-2023मंगलवार

270 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मासूमियत
मासूमियत
Punam Pande
कभी फुरसत मिले तो पिण्डवाड़ा तुम आवो
कभी फुरसत मिले तो पिण्डवाड़ा तुम आवो
gurudeenverma198
किसी को फर्क भी नही पड़ता
किसी को फर्क भी नही पड़ता
पूर्वार्थ
कभी
कभी
Ranjana Verma
2902.*पूर्णिका*
2902.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चाँदनी
चाँदनी
नन्दलाल सुथार "राही"
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
Khem Kiran Saini
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
Harinarayan Tanha
माँ
माँ
Arvina
सत्य शुरू से अंत तक
सत्य शुरू से अंत तक
विजय कुमार अग्रवाल
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
😊चुनावी साल😊
😊चुनावी साल😊
*Author प्रणय प्रभात*
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
Manoj Mahato
छंद घनाक्षरी...
छंद घनाक्षरी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
उम्मीदें  लगाना  छोड़  दो...
उम्मीदें लगाना छोड़ दो...
Aarti sirsat
एहसास
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
Vicky Purohit
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
अनिल कुमार
*क्या हाल-चाल हैं ? (हास्य व्यंग्य)*
*क्या हाल-चाल हैं ? (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
हुई नैन की नैन से,
हुई नैन की नैन से,
sushil sarna
बादलों को आज आने दीजिए।
बादलों को आज आने दीजिए।
surenderpal vaidya
हार से डरता क्यों हैं।
हार से डरता क्यों हैं।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सफलता
सफलता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बुरा वक्त
बुरा वक्त
लक्ष्मी सिंह
मछली के बाजार
मछली के बाजार
Shekhar Chandra Mitra
"सुने जो दिल की कहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...