Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2023 · 1 min read

2289.पूर्णिका

2289.पूर्णिका
🌷हर कोई हिसाब मांगते हैं 🌷
हर कोई हिसाब मांगते हैं ।
रोज फटी किताब मांगते हैं ।।
ठेका ले लिया जहाँ यहाँ की ।
ताज सजा के गुलाब मांगते हैं ।।
आता कुछ नहीं जिन्हें कहे क्या ।
बेशर्म बन खिताब मांगते हैं ।।
दुनिया प्यार से न बात करते ।
सब खाकर जुलाब मांगते हैं ।।
बदले आसमान आज खेदू ।
बहके दिल शबाब मांगते हैं ।।
……….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
5-5-2023शुक्रवार

383 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हे नाथ कहो
हे नाथ कहो
Dr.Pratibha Prakash
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जब कोई महिला किसी के सामने पूर्णतया नग्न हो जाए तो समझिए वह
जब कोई महिला किसी के सामने पूर्णतया नग्न हो जाए तो समझिए वह
Rj Anand Prajapati
प्राकृतिक सौंदर्य
प्राकृतिक सौंदर्य
Neeraj Agarwal
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
आसमाँ .......
आसमाँ .......
sushil sarna
अंतरंग प्रेम
अंतरंग प्रेम
Paras Nath Jha
"शब्दों की सार्थकता"
Dr. Kishan tandon kranti
2667.*पूर्णिका*
2667.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
gurudeenverma198
लोगो समझना चाहिए
लोगो समझना चाहिए
शेखर सिंह
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
Shashi kala vyas
सूर्ययान आदित्य एल 1
सूर्ययान आदित्य एल 1
Mukesh Kumar Sonkar
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
पूर्वार्थ
रिश्ते मोबाइल के नेटवर्क जैसे हो गए हैं। कब तक जुड़े रहेंगे,
रिश्ते मोबाइल के नेटवर्क जैसे हो गए हैं। कब तक जुड़े रहेंगे,
Anand Kumar
हिन्द की भाषा
हिन्द की भाषा
Sandeep Pande
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हसीब सोज़... बस याद बाक़ी है
हसीब सोज़... बस याद बाक़ी है
अरशद रसूल बदायूंनी
माँ
माँ
Arvina
जीने का हक़!
जीने का हक़!
कविता झा ‘गीत’
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
धोखा था ये आंख का
धोखा था ये आंख का
RAMESH SHARMA
दोहा - चरित्र
दोहा - चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चूल्हे की रोटी
चूल्हे की रोटी
प्रीतम श्रावस्तवी
ज़ब्त की जिसमें
ज़ब्त की जिसमें
Dr fauzia Naseem shad
भूरा और कालू
भूरा और कालू
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तबकी  बात  और है,
तबकी बात और है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तुझसा कोई प्यारा नहीं
तुझसा कोई प्यारा नहीं
Mamta Rani
विष्णु प्रभाकर जी रहे,
विष्णु प्रभाकर जी रहे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तू है एक कविता जैसी
तू है एक कविता जैसी
Amit Pathak
Loading...