Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2023 · 1 min read

2280.पूर्णिका

2280.पूर्णिका
🌹वादे अधूरे रह गए 🌹
वादे अधूरे रह गए ।
अरमान पूरे रह गए ।।
बोले यहाँ सच झूठ भी ।
इंसान चूरे रह गए ।।
आते नहीं कोई जहाँ ।
सब लाल भूरे रह गए ।।
दुनिया कहे क्या बात है ।
अब प्यार घूरे रह गए ।।
ईमान है खेदू कहाँ ।
मंजिल भटूरे रह गए ।।
………….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
28-4-2023शुक्रवार

436 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल तमन्ना
दिल तमन्ना
Dr fauzia Naseem shad
चाहो न चाहो ये ज़िद है हमारी,
चाहो न चाहो ये ज़िद है हमारी,
Kanchan Alok Malu
पाती प्रभु को
पाती प्रभु को
Saraswati Bajpai
तरन्नुम में अल्फ़ाज़ सजते सजाते
तरन्नुम में अल्फ़ाज़ सजते सजाते
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चलते-फिरते लिखी गई है,ग़ज़ल
चलते-फिरते लिखी गई है,ग़ज़ल
Shweta Soni
मेरे अधरों पर जो कहानी है,
मेरे अधरों पर जो कहानी है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
Ram Krishan Rastogi
"नमक का खारापन"
Dr. Kishan tandon kranti
💥सच कहा तो बुरा मान गए 💥
💥सच कहा तो बुरा मान गए 💥
Dr.Khedu Bharti
बेटा हिन्द का हूँ
बेटा हिन्द का हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आप  की  मुख्तसिर  सी  मुहब्बत
आप की मुख्तसिर सी मुहब्बत
shabina. Naaz
पंछियों का कलरव सुनाई ना देगा
पंछियों का कलरव सुनाई ना देगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मन अपने बसाओ तो
मन अपने बसाओ तो
surenderpal vaidya
*वर्तमान को स्वप्न कहें , या बीते कल को सपना (गीत)*
*वर्तमान को स्वप्न कहें , या बीते कल को सपना (गीत)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
सत्य कुमार प्रेमी
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
Neeraj Agarwal
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
दयालू मदन
दयालू मदन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
डॉ.सीमा अग्रवाल
समा गये हो तुम रूह में मेरी
समा गये हो तुम रूह में मेरी
Pramila sultan
NUMB
NUMB
Vedha Singh
पुलवामा वीरों को नमन
पुलवामा वीरों को नमन
Satish Srijan
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
8) दिया दर्द वो
8) दिया दर्द वो
पूनम झा 'प्रथमा'
प्यासा पानी जानता,.
प्यासा पानी जानता,.
Vijay kumar Pandey
काश कि ऐसा होता....
काश कि ऐसा होता....
Ajay Kumar Mallah
!! हे उमां सुनो !!
!! हे उमां सुनो !!
Chunnu Lal Gupta
तुम से प्यार नहीं करती।
तुम से प्यार नहीं करती।
लक्ष्मी सिंह
Loading...