Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

2122/2122/212

गज़ल

2122/2122/212
कहते हैं वो खानदानी है बहुत।
खून में उसके रवानी है बहुत।।

लोग प्यासे मर रहे हैं अनगिनत,
यूं तो चारो ओर पानी है बहुत।

जो किया है भोगना है फल हमें,
आपदाएं और आनी हैं बहुत।

मत है, इसको मत करो बर्बाद तुम,
बात ये सबको बतानी है बहुत।

प्यार, घर परिवार औ’र मां बाप है,
जीने को खेती किसानी है बहुत।

देश पर कुर्बान होने का जिगर,
जिसमें है ऐसी जवानी है बहुत।

राधा गोपी ग्वाल ‘प्रेमी’ बन जिओ,
एक पल की जिंदगानी है बहुत।

……..✍️ सत्य कुमार प्रेमी

34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"मुखौटे"
इंदु वर्मा
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
Kshma Urmila
दौलत -दौलत ना करें (प्यासा के कुंडलियां)
दौलत -दौलत ना करें (प्यासा के कुंडलियां)
Vijay kumar Pandey
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
....ऐ जिंदगी तुझे .....
....ऐ जिंदगी तुझे .....
Naushaba Suriya
😊अनुरोध😊
😊अनुरोध😊
*प्रणय प्रभात*
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
कवि दीपक बवेजा
गजब हुआ जो बाम पर,
गजब हुआ जो बाम पर,
sushil sarna
*आया संवत विक्रमी,आया नूतन वर्ष (कुंडलिया)*
*आया संवत विक्रमी,आया नूतन वर्ष (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
ruby kumari
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
Phool gufran
🌹थम जा जिन्दगी🌹
🌹थम जा जिन्दगी🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
पुनर्वास
पुनर्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
********* बुद्धि  शुद्धि  के दोहे *********
********* बुद्धि शुद्धि के दोहे *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नए दौर का भारत
नए दौर का भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मैं चाँद पर गया
मैं चाँद पर गया
Satish Srijan
नीला अम्बर नील सरोवर
नीला अम्बर नील सरोवर
डॉ. शिव लहरी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mukesh Kumar Sonkar
हां मैं दोगला...!
हां मैं दोगला...!
भवेश
♥️♥️दौर ए उल्फत ♥️♥️
♥️♥️दौर ए उल्फत ♥️♥️
umesh mehra
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
Neelam Sharma
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
Harminder Kaur
मैं घाट तू धारा…
मैं घाट तू धारा…
Rekha Drolia
Live in Present
Live in Present
Satbir Singh Sidhu
बचपन की मोहब्बत
बचपन की मोहब्बत
Surinder blackpen
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
"एक नज़्म तुम्हारे नाम"
Lohit Tamta
तुम गंगा की अल्हड़ धारा
तुम गंगा की अल्हड़ धारा
Sahil Ahmad
अगर प्रेम में दर्द है तो
अगर प्रेम में दर्द है तो
Sonam Puneet Dubey
Loading...