Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

21)”होली पर्व”

“फागुन मास रंगो का, तन में खिलता जाये।
फूलों से भी खेलें होली, कृष्ण प्रेम को सजायें”

हर्षोल्लास संग होली पर्व है आया,
पर्व मनाने का ख़्याल,मन को हर्षाया।
कन्हैया संग राधा की प्रीत का रंग चढ़ आया,
होली रंगो का त्योहार,सब को है भाया।

खिल खिल कर आया,होली पर्व मनाया।।

खेलने को दिल हुआ उतावला,
नाच और गाने का मौसम हुआ सुहावना।
शर्मीली सी पिचकारी करती कमाल,
पीली सरसों से लदी हुई धरा का,
जोश के साथ होता धमाल।

रंगो का सुंदर है मेल,
रखना नही कोई भेद।
मिठाइयों का लगता है भंडार,
गुजिया,ठंडाई का स्वाद है बेशुमार।

दिलों को जोड़ना एंव होली है खेलना,
लाल हुआ गुलाबी,पीला भी शराबी,
हरा करता कमाल,संतरी के साथ,
मिल जुल कर बोलना,होली है खेलना।

खिल खिल कर आया,होली पर्व मनाया।।

सोचो ज़रा…
जश्न अधूरा,कोरोना ने था घेरा,
दूर रखो बसेरा,फ़रमान था आया ।
सब्र था पास,आए दिन ख़ास,
समझा वं समझाया।
स्वस्थ मन,स्वस्थ तन संग रंगों को सजाया,
खिल खिल कर आया,होली पर्व मनाया।।

🔴🟡होली मुबारक🟢🟣

✍🏻स्वरचित/ मौलिक
सपना अरोरा।

Language: Hindi
1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sapna Arora
View all
You may also like:
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गोंडवाना गोटूल
गोंडवाना गोटूल
GOVIND UIKEY
*गुरुदेव की है पूर्णिमा, गुरु-ज्ञान आज प्रधान है【 मुक्तक 】*
*गुरुदेव की है पूर्णिमा, गुरु-ज्ञान आज प्रधान है【 मुक्तक 】*
Ravi Prakash
वक्त
वक्त
Shyam Sundar Subramanian
क्या मणिपुर बंगाल क्या, क्या ही राजस्थान ?
क्या मणिपुर बंगाल क्या, क्या ही राजस्थान ?
Arvind trivedi
स्त्री का सम्मान ही पुरुष की मर्दानगी है और
स्त्री का सम्मान ही पुरुष की मर्दानगी है और
Ranjeet kumar patre
विश्व सिंधु की अविरल लहरों पर
विश्व सिंधु की अविरल लहरों पर
Neelam Sharma
इतिहास
इतिहास
Dr.Priya Soni Khare
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
* उपहार *
* उपहार *
surenderpal vaidya
23/170.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/170.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्थापित भय अभिशाप
स्थापित भय अभिशाप
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
उसका चेहरा उदास था
उसका चेहरा उदास था
Surinder blackpen
बोलना , सुनना और समझना । इन तीनों के प्रभाव से व्यक्तित्व मे
बोलना , सुनना और समझना । इन तीनों के प्रभाव से व्यक्तित्व मे
Raju Gajbhiye
*देश की आत्मा है हिंदी*
*देश की आत्मा है हिंदी*
Shashi kala vyas
कह्र ....
कह्र ....
sushil sarna
सोचना नहीं कि तुमको भूल गया मैं
सोचना नहीं कि तुमको भूल गया मैं
gurudeenverma198
*साथ निभाना साथिया*
*साथ निभाना साथिया*
Harminder Kaur
" ढले न यह मुस्कान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
ruby kumari
ऐ मौत
ऐ मौत
Ashwani Kumar Jaiswal
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आप और हम जीवन के सच................एक सोच
आप और हम जीवन के सच................एक सोच
Neeraj Agarwal
"समय"
Dr. Kishan tandon kranti
नज्म- नजर मिला
नज्म- नजर मिला
Awadhesh Singh
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
नूरफातिमा खातून नूरी
दिल का खेल
दिल का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जहां तक रास्ता दिख रहा है वहां तक पहुंचो तो सही आगे का रास्त
जहां तक रास्ता दिख रहा है वहां तक पहुंचो तो सही आगे का रास्त
dks.lhp
महोब्बत का खेल
महोब्बत का खेल
Anil chobisa
Mohabbat
Mohabbat
AMBAR KUMAR
Loading...