Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !

ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
नव- विचारों के विहग नव, नित उड़ें उन्मुक्त होकर
चटक रंगों से रँगे पंखों सहित बल खा रहे हों
तू इन्हें उल्लास दे जा , सहज-बुद्धि प्रकाश दे जा
अरे ! तू मेधा-पवन की फरफराहट सहज बन जा |
ऐ ह्रदय ! तू पवन बन जा !

नित नया कर्दम समेटे , क्षुद्र सरिताएं भी आयें
मर्म पर आघात करती, वृहद् चट्टानें भी लायें
अरे ! तू चट्टान को खंडित करे, मोती बना जा
तू महा हिल्लोल लेता तरंगायित जलधि बन जा |
ऐ ह्रदय तू जलधि बन जा !

खींच ले तू धरणि बन कर , सभी विषमय श्वांस जो हों
रोग दूषण के जनक, सड़ते, जगत के पाप जो हों
उर्वरक उनका बना, नव-पौध का पोषण बना जा |
ऐ ह्रदय ! तू धरणि बन जा !

तुमुल कोलाहल जगत का, करुण-क्रंदन-रुदन जग का
नित विघटता स्वयं को, स्वर दुन्दुभी आघात का
लीन कर ले आत्म में तू, शौर्यमय नव शब्द बन जा |
ऐ ह्रदय ! तू मुखर बन जा !

उड़ा जा तू विघ्न पर्वत, शांत कर सरिता तरंगित
क्रूर-तरु, इन भाग्य- अंकों को तू जड़ से ही गिरा जा
आज अंधड़ लिए मन में , वात- चक्रित तड़ित बन जा |
ऐ ह्रदय तू तड़ित बन जा !

कुटिल विषधर सघन-वन से निकल कर जो डँस रहे हों
भाव-शिशुओं को जो हिंसक व्याघ्रादिक खा रहे हों
सघन वन को दाह करने अरे ! तू दावाग्नि बन जा |
ऐ ह्रदय ! दावाग्नि बन जा !

स्वरचित एवं मौलिक (काव्यसंग्रह “मौन के आयाम” से )
रचयिता :(सत्य) किशोर निगम

Language: Hindi
2 Likes · 131 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kishore Nigam
View all
You may also like:
देह धरे का दण्ड यह,
देह धरे का दण्ड यह,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
Mohan Pandey
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
भ्रम का जाल
भ्रम का जाल
नन्दलाल सुथार "राही"
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
माता की महिमा
माता की महिमा
SHAILESH MOHAN
Not only doctors but also cheater opens eyes.
Not only doctors but also cheater opens eyes.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हसदेव बचाना है
हसदेव बचाना है
Jugesh Banjare
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
Kshma Urmila
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
*तेरे साथ जीवन*
*तेरे साथ जीवन*
AVINASH (Avi...) MEHRA
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बहुत मशरूफ जमाना है
बहुत मशरूफ जमाना है
नूरफातिमा खातून नूरी
"कैसा जमाना आया?"
Dr. Kishan tandon kranti
कलम लिख दे।
कलम लिख दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
Ranjeet kumar patre
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बसंत
बसंत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
DrLakshman Jha Parimal
एकाकीपन
एकाकीपन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जीने की ख़्वाहिशों में
जीने की ख़्वाहिशों में
Dr fauzia Naseem shad
दुनिया जमाने में
दुनिया जमाने में
manjula chauhan
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ज़िंदा हूं
ज़िंदा हूं
Sanjay ' शून्य'
एक उलझन में हूं मैं
एक उलझन में हूं मैं
हिमांशु Kulshrestha
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
Dr Archana Gupta
2263.
2263.
Dr.Khedu Bharti
#गीत :--
#गीत :--
*Author प्रणय प्रभात*
*न जाने रोग है कोई, या है तेरी मेहरबानी【मुक्तक】*
*न जाने रोग है कोई, या है तेरी मेहरबानी【मुक्तक】*
Ravi Prakash
Loading...