Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 8, 2021 · 1 min read

हमार भोजपुरिया

सँघवाँ बोलावे हमार भोजपुरिया
रहिया देखावे हमार भोजपुरिया
जिनिगी के घामे से जीउ तलफलाय तब
अँचरा ओढ़ावे हमार भोजपुरिया
©️ शैलेन्द्र ‘असीम’

281 Views
You may also like:
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
अनामिका के विचार
Anamika Singh
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
💔💔...broken
Palak Shreya
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
माँ की याद
Meenakshi Nagar
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...