Nov 6, 2021 · 2 min read

” मैथिली भाषा सं विमुख नहि करू अपन बच्चा कें “

डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
============================
हम कखनो -कखनो किनको तर्क सं तिलमिला जाइत छी ,अचंभित भ जाइत ! कखनो माथ कुड़ीयबैत इ अन्वेषण करS लगैत छी कि एहन दिव्य व्यक्तिक प्रकाश मलिन किया भ गेलनि ? हुनका बुझने त ओ ज्ञानक आलोक पसारि रहल छथि ! किछु प्रेमी लोकनि हुनके तबलाक थाप पर मंत्रमुग्ध भेल आंखि बंद केने अप्पन गरदनि हिलेनाइ प्रारंभ कS देत छथि ! परंच जिनका ताल- मात्र ,लय आ संगीतक कनिकबो ज्ञान रहित छैन्हि ओ एकाग्रचित भS सुनैत छथि ! कनिकबो जे सुर सं विचलित भेलहुँ त इंगित केनाय सं परहेज नहि करताह ! ओना सब प्राणीक विचारधारा एक सन नहि भ सकैत अछि ! हम जाहि परिवेश छी , जेना हम सबगोटे रहैत छी ,हमर जे कार्यशैली अछि ओ सब हमर लिखब ,बाजव आ अभिव्यक्ति मे परिलक्षित हैत ! कियो कहैत छथि “बच्चा लोकनि पैघ -पैघ स्कूल मे अंग्रेजी आ हिंदी माध्यम मे शिक्षा ग्रहण करैत छथि ! हुनका लोकनि कें ओहि भाषा मे निपुण केनाय अतिआवश्यक ! मैथिली भाषा त ओहिना ओ सब सीख जेताह तें हमरा लोकनि कें अपना बच्चा सब सं अंग्रेजी आ हिंदीये मे बातचीत करक चाहि ! मैथिली त अप्पन भाषा अछि ताहि लेल चिंता जुनि करू ओ कखनो सीख लेत !” एहि रूपक विचारधारा प्रगट केनाय कोनो अपराध नहि थीक ! विचारक अभिव्यक्तिक अधिकार सबकें भेटल छैक ! आब निर्णय हमरा लोकनि कें करबाक अछि जे इ राग ‘ महेशवाणी ‘ भेल कि ‘नचारी ‘ !
बच्चाक प्रतिभाक रूपक संरचना हम कोनो भाषाक माध्यमे कोनो आकृति प्रदान क सकैत छी इ सत्य थीक ! परंच आन भाषा मे अपना घर मे पदाबि इ हम यथोचित कथमपि नहि बुझब कियाकत ओ मैथिली भाषाक मोह आ बजनाइ सं कतो बंचित नS भ जाथि ! एतबे नहि गाम घरक परिवेश मे ओ अपना कें अनभूआर भ जेबाक शंका रहतनि ! बंगाली ,उडिया ,पंजाबी ,गुजरती ,मराठी ,मलयाली इत्यादि लोकनि घर मे अपन भाषा मे गप्प करैत छथि आ ओहि भाषा माध्यमे अंग्रेजी आ हिंदीक ज्ञान देत छथि ! मिथिलाक माटि-पानि सं यदि बच्चा कें आकर्षित करबाक अछि त अपन तर्कक संगे न्याय करय पडत अन्यथा बरद आहांक…. जकरा सं नाथि लिय तकरे सं नाथू …..कोनो हर्ज नहि !
===========================================
डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका

1 Like · 108 Views
You may also like:
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
Anamika Singh
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🌺प्रेम की राह पर-45🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
इश्क में तुम्हारे गिरफ्तार हो गए।
Taj Mohammad
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता का पता
श्री रमण
An abeyance
Aditya Prakash
ऐसी बानी बोलिये
अरशद रसूल /Arshad Rasool
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
राम ! तुम घट-घट वासी
Saraswati Bajpai
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम भी नज़ीर बन जाते।
Taj Mohammad
श्रमिक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
चिड़ियाँ
Anamika Singh
चल अकेला
Vikas Sharma'Shivaaya'
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
आपस में तुम मिलकर रहना
Krishan Singh
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
🙏मॉं कालरात्रि🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
विरह वेदना जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:35
AJAY AMITABH SUMAN
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...