Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jan 8, 2017 · 1 min read

मातृभूमि

मातृभूमि में जियूँगा मातृभूमि में मरूंगा मैं
कर जाऊँगा न्यौनछावर सबकुछ नही हटूंगा मैं
न मिले यश मुझे न मिले सम्‍मान कोई
मान रखनें खातिर सदा मातृभूमि में रहूंगा मैं
———————- #बृजपाल सिंह

2 Likes · 390 Views
You may also like:
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बरसात
मनोज कर्ण
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
पिता
Buddha Prakash
मेरी लेखनी
Anamika Singh
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
Loading...