Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

माई के ललनवा

बम चले गोली चले, उहँवा न बोली चले,
सीमवा प सीना तानि, खाडा बा जवनवा।

दुसमन वार करे, कोशिश हजार करे,
लजिया बचावऽ ताते, माई के ललनवा।

हर घड़ी हर छण, खाडा रहे दिन भर,
रहे चउकना देखऽ, सांझो रे विहनवा।

भारत माई क शेरऽ, करे ना तनिक देरऽ,
हँसत हँसत देला, सीम प परनवा।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य’
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

272 Views
You may also like:
बुध्द गीत
Buddha Prakash
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
संत की महिमा
Buddha Prakash
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
माँ
आकाश महेशपुरी
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
पापा
सेजल गोस्वामी
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
Loading...