Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

मनुवाद के सत्यानाश

ऊंच ना होईत
नीच ना होईत!
छूत ना होईत
छात ना होईत!!
कईसन होईत
आपन देश जो
जात ना होईत
पात ना होईत!!
Shekhar Chandra Mitra
#kabeerreturns

187 Views
You may also like:
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता का दर्द
Nitu Sah
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Santoshi devi
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
Loading...