Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

भेदभाव एतना बा…

भेदभाव एतना बा…
■■■■■■■■■
दुख में डूबल बाटे कहीं पर जिनिगी त,
कहीं सुखवे के बस बरसे बदरिया।

कहीं भर पेट नाहीं भोजन मिलत हवे,
कहीं मदिरा के छलकत बा गगरिया।

भेदभाव एतना बा मनई आ मनई में,
प्लेन से चले त केहू पैदले डगरिया।

बाकी जन्म आ मरन एक ही समान होला,
कबो तू घमंड के ना जइहऽ पँजरिया।

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- ०८/०७/२०२१

264 Views
You may also like:
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
हम सब एक है।
Anamika Singh
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
सुन्दर घर
Buddha Prakash
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
पिता
Manisha Manjari
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
Loading...