Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

बेवफ़ाई के सज़ा

हम दोसर सजा
तहके दीं का
तू हमके ना
जब जान पवलू!
भाग्य से तहसे
मिलल रहनी
तू बाकिर ना
पहचान पवलू!!
ऊ पागल हअ
आवारा हअ
झगड़ालू हअ
नाकारा हअ!
पड़लू दुनिया के
कहला में तू
आत्मा के कहल
ना मान पवलू!!
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
(A Dream of Love)

171 Views
You may also like:
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पंचशील गीत
Buddha Prakash
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
गीत
शेख़ जाफ़र खान
देश के नौजवानों
Anamika Singh
पिता
Dr. Kishan Karigar
Loading...