Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

बिरहनी जियरा

जाने मन के मितवा कहाँ गइल
‘अबहिये आ जाई’, कहत रहल

उनके कछु खोज न खबरिया मिले
बिरहनी जियरा भी दहल गइल

•••

2 Likes · 312 Views
You may also like:
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Santoshi devi
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Green Trees
Buddha Prakash
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
अरदास
Buddha Prakash
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
Loading...