Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

बरखा पर के घाम

लागल बाटे रोपनी, जरे देह के चाम।
अन्न क दाता हऽ कृषक,कइसे करी अराम।
माथे बीज कुदार धर, चलल खेत की ओर-
लागे ला मरिचा नियन, बरखा पर के घाम।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य’
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

306 Views
You may also like:
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ
आकाश महेशपुरी
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इंतजार
Anamika Singh
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...