Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2023 · 1 min read

She never apologized for being a hopeless romantic, and endless dreamer.

The clouds hovered in an unknown sky,
She was a mess of shattered dreams, yet her hopes were high.
Envy stirred within as they witnessed her bold style and contagious smile,
But no one cared about her bleeding toes when she traveled a mile.
They looked at her carefree attitude and threw poisonous darts,
But no one ever understood her way of uniquely standing out and listening to her heart.
With her unmistakable smirk and fiery eyes, she was the wild one who couldn’t be tamed,
They cowered before her fearless spirit, casting blame and proclaimed;
They cried, fearing her audacious grace “You should be ashamed.”
Behind their mask and trembling guise, they longed to be like her,
Who never apologized for being a hopeless romantic and endless dreamer.

143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
*हँसो जिंदगी में मुस्काओ, अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका 】*
*हँसो जिंदगी में मुस्काओ, अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका 】*
Ravi Prakash
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
डॉ० रोहित कौशिक
जीवन सभी का मस्त है
जीवन सभी का मस्त है
Neeraj Agarwal
अमीर
अमीर
Punam Pande
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तेवरी को विवादास्पद बनाने की मुहिम +रमेशराज
तेवरी को विवादास्पद बनाने की मुहिम +रमेशराज
कवि रमेशराज
बलात-कार!
बलात-कार!
अमित कुमार
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अफसाने
अफसाने
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
Shweta Soni
हूं बहारों का मौसम
हूं बहारों का मौसम
साहित्य गौरव
■ कहानी घर-घर की।
■ कहानी घर-घर की।
*Author प्रणय प्रभात*
नमन!
नमन!
Shriyansh Gupta
Childhood is rich and adulthood is poor.
Childhood is rich and adulthood is poor.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बुंदेलखंड के आधुनिक कवि पुस्तक कलेक्टर महोदय को भेंट की
बुंदेलखंड के आधुनिक कवि पुस्तक कलेक्टर महोदय को भेंट की
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बिना मेहनत के कैसे मुश्किल का तुम हल निकालोगे
बिना मेहनत के कैसे मुश्किल का तुम हल निकालोगे
कवि दीपक बवेजा
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोहे
दोहे "हरियाली तीज"
Vaishali Rastogi
* आ गया बसंत *
* आ गया बसंत *
surenderpal vaidya
एहसास के रिश्तों में
एहसास के रिश्तों में
Dr fauzia Naseem shad
मशाल
मशाल
नेताम आर सी
"दिल का हाल सुने दिल वाला"
Pushpraj Anant
अंगारों को हवा देते हैं. . .
अंगारों को हवा देते हैं. . .
sushil sarna
"दरख़्त"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन
जीवन
Rekha Drolia
बगावत की बात
बगावत की बात
AJAY PRASAD
जिन्दा रहे यह प्यार- सौहार्द, अपने हिंदुस्तान में
जिन्दा रहे यह प्यार- सौहार्द, अपने हिंदुस्तान में
gurudeenverma198
अगर प्रेम है
अगर प्रेम है
हिमांशु Kulshrestha
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
Loading...