Nov 19, 2021 · 1 min read

पिता के दर्द

विधा-कुण्डलिया

कइसे-कइसे के इहाँ,अइलें सोंच सहेज।
बेटहा क ई माँङ बा,दुलहिन अउर दहेज।
दुलहिन अउर दहेज ,बराबर दूनू चाहीं।
ना तऽ देब चहेट,करब हम शादी नाहीं।
सुनि क बेटिहा ठाढ़,काठ मरले हो जइसे।
लोभी बा दहिजार,बियाहब बेटी कइसे।।

**माया शर्मा**

1 Like · 135 Views
You may also like:
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
हो रही है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
युद्ध हमेशा टाला जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बाबा ब्याह ना देना,,,
Taj Mohammad
फिजूल।
Taj Mohammad
कामयाबी
डी. के. निवातिया
चिट्ठी का जमाना और अध्यापक
Mahender Singh Hans
नई लीक....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
वसंत का संदेश
Anamika Singh
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता
Deepali Kalra
🌻🌻🌸"इतना क्यों बहका रहे हो,अपने अन्दाज पर"🌻🌻🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता
Dr.Priya Soni Khare
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ग्रीष्म ऋतु भाग 1
Vishnu Prasad 'panchotiya'
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
यदि मेरी पीड़ा पढ़ पाती
Saraswati Bajpai
Loading...