Oct 7, 2021 · 2 min read

” द्रिग्भ्रमित भेने आलोचना हैत ” ( फेसबुक ग्रुप )

डॉ लक्ष्मण झा “ परिमल “
=======================
एहि सम्पूर्ण परिवेश मे सबहक कार्य क्षेत्र स्वतः निर्धारित कयल गेल अछि आ बहुत गोटे एहनो छथि जे अप्पन -अप्पन कार्यक रुपरेखा स्वयं निर्धारित केने छथि ! माता -पिता ,शिक्षक- शिक्षिका ,छात्र- छात्रा , श्रमिक ,कर्मचारी ,पधाधिकारी ,लेखक, लेखिका ,चिकित्सक ,अभिव्याक्ता, कलाकार ,खिलाडी ,संबाददाता ,संचालक आ अनेको लोकनि अप्पन -अप्पन विभिन्य भूमिका क लेल विख्यात छथि आ स ह्रदय सं जुडल !

कार्यक संपादन मे यदि अकर्मण्यता परिलक्षित हैत त सम्मान क गप्प त रहल कात तिरष्कारक मर्म भेदी बाण क प्रहार सहैत रहू ! जखन इ माप दंड समस्त वर्ग पर लागु होइत अछि तखन कोनो ग्रुप क नेतृत्व किया छुटल रहता ? फेसबुक क उद्भव क उपरांत एडमिन आ मोडरेटर कतो-कतो प्रजातांत्रिक मर्यादा भूलि जाइत छथि !

साहित्यक श्रृजन ..कविता रचना …लेख लेखनी आ विचार क अभिव्यक्ति सकारात्मक श्रृंगार सं सजाऔल प्रायः -प्रायः पाठक वृन्द कें मन मोहि लेत अछि ! आपार जनसमूह करतल ध्वनि सं हिनका स्वागत करैत छथि ! …श्रेष्ठ लोकनि हुनक ढाढस बंधबैत छथि …समतुल्य लोकनि अप्पन सकारात्मक टिप्पणी सं एकटा नविन मार्ग प्रसस्थ करैत छथि….नवतुरिया लोकनि कें मध्य एकटाअद्भुत स्फूर्ति क सञ्चालन होइत अछि ! नविन प्रेरणा आ उत्साह क संचार होइत अछि !….

परंच राजनीति विचारधारा सदेव विवादित बुझना गेल अछि ! सब गोटे कोनो न कोनो विचारधारा सं जुडल छथि ! अप्पन व्यथा ..अप्पन अनुभव ,,,अप्पन प्रतिक्रिया लिखि एकटा आनंदक अनुभव करैत छथि !…मुदा तकर विवेचना क लेल अनेको रंगमंच बनल अछि !

साहित्यक चर्चा कें लेल सजाओल रंगमंच पर नटुआ नृत्यक प्रदर्शन अशोभनीय मानल जाइत !..ताहि लेल हम सब सजग रहि ! पारदर्शिता ,नियम ,प्रजातान्त्रिक परिवेश ,सामंजस्यपूर्ण निर्भरता ,सबहक विचारक मान्यता….. कोनो समूह ,…कोनो संगठन ..अथवा ग्रुपक लेल स्तंभ मानल जाइत अछि !

मुदा ग्रुप क उदेश्य प्रायः प्रायः मलिन भS जाइत अछि आ एडमिन आ मोद्रटर क कर्तव्य बुझु गौण भS गेल छनि ! जहिना भारतीय टीवी न्यूज़ चैनल अप्पन टी ० आर ० पी० क लेल कठिन परिश्रम करैत अछि तहिना फेसबुक क ग्रुप एहि प्रतियोगिता मे लागि जाइत छथि !

कियो -कियो श्रेष्ठ लोकनि कतार मे लागल छथि अप्पन -अप्पन रचना नेने ! प्रतीक्षा क रहल छथि हमर सन्देश ग्रुप क समक्ष राखल जाऊ परंच राखल अछि अप्रूवल वला कोठी मे ! ताधरि नटुआ नृत्य देखैत रहू ! जखन एडमिन आ मोद्रटर कोनो ग्रुप क नेतृत्व करैत छथि त हुनका नेपोलिअन क नेतृत्व हेबाक चाहि ! संगठन आ समूह मे जे छथि सबकें संग ल कें चलबाक चाहि नहि त तानाशाही भंगिमा बुझल जाइत !
हमरा सबकें ह्रदय सं जुडबाक लेल प्रयास करबाक चाहि अन्यथा हम अप्पन उदेश्य सन डगमगा जायब !
=================
डॉ लक्ष्मण झा “ परिमल “
साउंड हैल्थ क्लीनिक
एस 0 पी 0 कॉलेज रोड
दुमका
झारखंड
भारत

96 Views
You may also like:
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता
Dr.Priya Soni Khare
चलो गांवो की ओर
Ram Krishan Rastogi
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
यह कौन सा विधान है
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रेरक संस्मरण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
【12】 **" तितली की उड़ान "**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*हिम्मत मत हारो ( गीत )*
Ravi Prakash
** शरारत **
Dr. Alpa H.
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
फूल
Alok Saxena
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
पिता
Meenakshi nagar Nagar
Loading...