Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

देवदास के पारो

का कही सखी, हमार सजन छिन गइल
हम तो केहूके ना रही… बस सुन रहल

का कही, देवदास के पारो लगी हम
अब तो शरत जी के किरदार बन गइल
•••

1 Like · 166 Views
You may also like:
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
माँ की याद
Meenakshi Nagar
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बुध्द गीत
Buddha Prakash
पंचशील गीत
Buddha Prakash
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
इंतजार
Anamika Singh
पिता
Meenakshi Nagar
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
Loading...