Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Dec 2023 · 1 min read

An Evening

That evening was different, that night also came different as if life was new, the body was the same as the old sleep, but the house was the same as the old, seven stars were shining in the sky, a small piece of change would disappear in the moonlight and then another piece of change would appear.

Language: English
92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from goutam shaw
View all
You may also like:
If life is a dice,
If life is a dice,
DrChandan Medatwal
इत्र, चित्र, मित्र और चरित्र
इत्र, चित्र, मित्र और चरित्र
Neelam Sharma
चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो
चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
बोलती आँखे....
बोलती आँखे....
Santosh Soni
और भी हैं !!
और भी हैं !!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Mahmood Alam
राम हमारी आस्था, राम अमिट विश्वास।
राम हमारी आस्था, राम अमिट विश्वास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज़िन्दगी में सभी के कई राज़ हैं ।
ज़िन्दगी में सभी के कई राज़ हैं ।
Arvind trivedi
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
Sakshi Tripathi
धरा पर लोग ऐसे थे, नहीं विश्वास आता है (मुक्तक)
धरा पर लोग ऐसे थे, नहीं विश्वास आता है (मुक्तक)
Ravi Prakash
3285.*पूर्णिका*
3285.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
31 जुलाई और दो सितारे (प्रेमचन्द, रफ़ी पर विशेष)
31 जुलाई और दो सितारे (प्रेमचन्द, रफ़ी पर विशेष)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
जब दादा जी घर आते थे
जब दादा जी घर आते थे
VINOD CHAUHAN
जीवन मे
जीवन मे
Dr fauzia Naseem shad
उसने किरदार ठीक से नहीं निभाया अपना
उसने किरदार ठीक से नहीं निभाया अपना
कवि दीपक बवेजा
घर के राजदुलारे युवा।
घर के राजदुलारे युवा।
Kuldeep mishra (KD)
दो दोस्तों की कहानि
दो दोस्तों की कहानि
Sidhartha Mishra
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नन्दी बाबा
नन्दी बाबा
Anil chobisa
जब कोई शब् मेहरबाँ होती है ।
जब कोई शब् मेहरबाँ होती है ।
sushil sarna
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
Shubham Pandey (S P)
साहित्य सृजन .....
साहित्य सृजन .....
Awadhesh Kumar Singh
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
हेेे जो मेरे पास
हेेे जो मेरे पास
Swami Ganganiya
If you ever need to choose between Love & Career
If you ever need to choose between Love & Career
पूर्वार्थ
दोहे
दोहे
सत्य कुमार प्रेमी
"लाभ का लोभ"
पंकज कुमार कर्ण
✍🏻 #ढीठ_की_शपथ
✍🏻 #ढीठ_की_शपथ
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...