Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

आम जनता जब बोले लागी

मज़दूर-किसान
मिल जाई!
तख्त-ताज सब
हिल जाई!!
आम जनता जब
बोले लागी
सरकार के मुंह
सिल जाई!!
Shekhar Chandra Mitra

92 Views
You may also like:
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
यादें
kausikigupta315
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
If we could be together again...
Abhineet Mittal
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
पिता
Keshi Gupta
Green Trees
Buddha Prakash
Loading...