Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

जनता के कवि

जवानन के
ललकार लिखेनी!
करे खातिर
आर-पार लिखेनी!!
हम राजा के
जय-जयकार नाहीं,
बस प्रजा के
हाहाकार लिखेनी!!
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#जनवादीगीतकार
#freedomofspeech

248 Views
You may also like:
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
समय ।
Kanchan sarda Malu
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
✍️दूरियाँ वो भी सहता है ✍️
Vaishnavi Gupta
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
बुआ आई
राजेश 'ललित'
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
गीत
शेख़ जाफ़र खान
पंचशील गीत
Buddha Prakash
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
Loading...