Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

चीख के लय

ना तअ चीख के
कवनो लय होला!
ना ही आह के
कवनो ताल हो!!
तू रस, छंद या
अलंकार नाहीं!
कविता में देखअ
देश के हाल हो!!
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#जनवादीगीतकार
#अवामीशायर

117 Views
You may also like:
Security Guard
Buddha Prakash
If we could be together again...
Abhineet Mittal
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कर्म का मर्म
Pooja Singh
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
पिता
Keshi Gupta
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Shailendra Aseem
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
बेरूखी
Anamika Singh
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
Loading...