Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 8, 2021 · 1 min read

केहू फुलवा

केहू फुलवा से रहिया सजावे, केहू कांटा बिछावल करेला
चान कइसे के उतरी अँगनवा, लोग कनखी से ताकल करेला

कवनो आन्ही हो, कवनो बवण्डर, बार बांका न करि पाई ओकर
जेकरा माथे प माई के अँचरा, काल भी ओसे काँपल करेला

फोरि पइब न हमनी के घरवा, नांव लेके धरम-जाति के तूँ
ई ह गंगा अ जमुना के धारा, मइलि सब कर बहावल करेला

ए गो रँग ई हो जिनिगी के हउए, चारि दिन में तूँ घबड़ात बाड़
फूल खिलला से पहिले बगइचा, आके पतझर बहारल करेला

उनसे नेहिया लगवला से पहिले, मन में धरिह ‘असीम’ ए गो कहना
ई ह दीया के आदति पुरनकी, मीत बनि के जरावल करेला
© शैलेन्द्र ‘असीम’

1 Like · 140 Views
You may also like:
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Meenakshi Nagar
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
मेरे साथी!
Anamika Singh
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Keshi Gupta
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता
Satpallm1978 Chauhan
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...