Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

का करि साहेब

नैन लड़ जैंहे गोरिया से… का करि साहेब
डूब नदिया में हम कहीं जा के मरि साहेब

ई जवानी कमसिन बरी, बिरहा रोग बरा
जोग लेके अब हम करें का हरि-हरि साहेब

•••

1 Like · 1 Comment · 370 Views
You may also like:
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
पिता
Neha Sharma
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
महँगाई
आकाश महेशपुरी
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...