Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

एतनो मति बनऽ तूँ भोला

एतनो मति बनऽ तूँ भोला
॰॰॰
चढ़े कपारे अगर गरीबी
दुख पहुँचावे पहिले बीबी
गाँव-नगर के खूब टिभोली
ऊपर से मेहरी के बोली
राशन-पानी के परसानी
याद करावे नाना-नानी
पाँव उघारे देहीँ दामा
फाटल चीटल पायट जामा
अइसे मेँ मड़ई जब टूटे
मनई बसवारी मेँ जूटे
बाँस खोजाला सीधा सबसे
सीधा के जग लूटे कबसे
सीधा होखे चाहे भोला
रोज रिगावे सँउसे टोला
गारी दे केहू हुमचउवा
बाड़ऽ बड़ी दुधारू चउवा
लोगवा दूही गरबो करी
बात बात मेँ मरबो करी
बिना जियाने पकड़ी लोला
येतनो मति बनऽ तूँ भोला
सीधा के तऽ लोगवा कही
गाई-बैल हऽ सबकुछ सही
कि केहू कही क्रेक हवे ई
बुद्धी के तऽ ब्रेक हवे ई
नट बोल्ट ढीला बा एकर
गदहा असली हउवे थेथर
मीलल जब बुद्धी के कोटा
एकरा बेरी परल टोटा
कि पावल सभे भर भर बोरा
ये के मीलल एक कटोरा
बुद्धी के बैरी ई हउवे
ये से तऽ नीमन बा कउवे
कि झुठको बतिया बुझबऽ सही
तहरा के लोग भादो कही
फायदा सभे उठावल करी
जीअहूँ दी ना एको घरी
मीठ-मीठ तहसे बतिया के
चाहे लाते से लतिया के
कोड़ी कहियो तहरे कोला
एतनो मति बनऽ तूँ भोला
अपना के छोटा मति जानऽ
भाई खुद के तूँ पहिचानऽ
ई दुनिया बा बड़ा कसाई
कमजोरे प लोगवा धाई
तहरा पर जे आँख उठाई
ओ से तूँ डरिहऽ मति भाई
बनि जइहऽ तूँ धधकत शोला
भाई मति बनिहऽ तूँ भोला

– आकाश महेशपुरी

3 Likes · 2 Comments · 455 Views
You may also like:
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
झूला सजा दो
Buddha Prakash
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
पिता
Ram Krishan Rastogi
महँगाई
आकाश महेशपुरी
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सिर्फ तुम
Seema 'Tu hai na'
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ
आकाश महेशपुरी
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
मन
शेख़ जाफ़र खान
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
Loading...