Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

एगो औरी इंकलाब

कईसन घमंड
कईसन नाज!
टूट जाई तख्त
गिर जाई ताज!!
बेमौत मरीहें
तानाशाह!
होई एगो
औरी इंकलाब!!
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra

205 Views
You may also like:
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
मन
शेख़ जाफ़र खान
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
प्यार
Anamika Singh
पिता
Aruna Dogra Sharma
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
समय ।
Kanchan sarda Malu
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
Loading...