Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

🧑‍🎓My life simple life🧑‍⚖️

इच्छा और लगाओ का त्याग ध्यान का अभ्यास करना बुद्धिमत्ता को बढ़ाना प्रेम दया और करुणा से हृदय परिपूर्ण होना एक सभ्य व्यक्ति की ओर संकेत करता है…✍️⚘️

Language: Hindi
1 Like · 49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माया मोह के दलदल से
माया मोह के दलदल से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेटियाँ
बेटियाँ
Surinder blackpen
मां के आँचल में
मां के आँचल में
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-204💐
💐प्रेम कौतुक-204💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम्हारा दीद हो जाए,तो मेरी ईद हो जाए
तुम्हारा दीद हो जाए,तो मेरी ईद हो जाए
Ram Krishan Rastogi
" तुम्हारे इंतज़ार में हूँ "
Aarti sirsat
आए अवध में राम
आए अवध में राम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बीते कल की रील
बीते कल की रील
Sandeep Pande
Jo milta hai
Jo milta hai
Sakshi Tripathi
जनरेशन गैप / पीढ़ी अंतराल
जनरेशन गैप / पीढ़ी अंतराल
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
हवायें तितलियों के पर काट लेती हैं
हवायें तितलियों के पर काट लेती हैं
कवि दीपक बवेजा
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
Vishal babu (vishu)
कभी मिलो...!!!
कभी मिलो...!!!
Kanchan Khanna
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
Shyam Pandey
तुम्हारे आगे, गुलाब कम है
तुम्हारे आगे, गुलाब कम है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हनुमान जयंती
हनुमान जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"शिक्षक"
Dr Meenu Poonia
जय हिन्द वाले
जय हिन्द वाले
Shekhar Chandra Mitra
संघर्ष
संघर्ष
Sushil chauhan
कहार
कहार
Mahendra singh kiroula
सत्य
सत्य
Dr. Rajiv
जवाब दो हम सवाल देंगे।
जवाब दो हम सवाल देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
प्रेमदास वसु सुरेखा
जिद कहो या आदत क्या फर्क,
जिद कहो या आदत क्या फर्क,"रत्न"को
गुप्तरत्न
कुछ मत कहो
कुछ मत कहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■ हाल-बेहाल...
■ हाल-बेहाल...
*Author प्रणय प्रभात*
"अश्क भरे नयना"
Ekta chitrangini
*धन्य तुम मॉं, सिंह पर रहती सदैव सवार हो (मुक्तक)*
*धन्य तुम मॉं, सिंह पर रहती सदैव सवार हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
काला दिन
काला दिन
Shyam Sundar Subramanian
ज़िंदगी ज़िंदगी ही होतीं हैं
ज़िंदगी ज़िंदगी ही होतीं हैं
Dr fauzia Naseem shad
Loading...