Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2024 · 1 min read

🙅ओनली पूछिंग🙅

🙅ओनली पूछिंग🙅

इस बार “चुनाव” भी होंगे या डायरेक्ट “शपथ” हो जाएगी…?

◆प्रणय प्रभात◆

1 Like · 54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपने आमाल पे
अपने आमाल पे
Dr fauzia Naseem shad
गुरु मेरा मान अभिमान है
गुरु मेरा मान अभिमान है
Harminder Kaur
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
बड़ा ही सुकूँ देगा तुम्हें
बड़ा ही सुकूँ देगा तुम्हें
ruby kumari
जिस दिन आप कैसी मृत्यु हो तय कर लेते है उसी दिन आपका जीवन और
जिस दिन आप कैसी मृत्यु हो तय कर लेते है उसी दिन आपका जीवन और
Sanjay ' शून्य'
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कवि दीपक बवेजा
.
.
Amulyaa Ratan
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
अब महान हो गए
अब महान हो गए
विक्रम कुमार
गरीब की आरजू
गरीब की आरजू
Neeraj Agarwal
गूॅंज
गूॅंज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
सत्य केवल उन लोगो के लिए कड़वा होता है
सत्य केवल उन लोगो के लिए कड़वा होता है
Ranjeet kumar patre
ज़िंदगी कभी बहार तो कभी ख़ार लगती है……परवेज़
ज़िंदगी कभी बहार तो कभी ख़ार लगती है……परवेज़
parvez khan
"UG की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Mental health
Mental health
Bidyadhar Mantry
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
Sonu sugandh
अहोभाग्य
अहोभाग्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Ab maine likhna band kar diya h,
Ab maine likhna band kar diya h,
Sakshi Tripathi
2893.*पूर्णिका*
2893.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—1.
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—1.
कवि रमेशराज
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
पूर्वार्थ
क़त्आ
क़त्आ
*प्रणय प्रभात*
गद्दार है वह जिसके दिल में
गद्दार है वह जिसके दिल में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक पति पत्नी भी बिलकुल बीजेपी और कांग्रेस जैसे होते है
एक पति पत्नी भी बिलकुल बीजेपी और कांग्रेस जैसे होते है
शेखर सिंह
भ्रष्टाचार
भ्रष्टाचार
Paras Nath Jha
# 𑒫𑒱𑒔𑒰𑒩
# 𑒫𑒱𑒔𑒰𑒩
DrLakshman Jha Parimal
6) जाने क्यों
6) जाने क्यों
पूनम झा 'प्रथमा'
गं गणपत्ये! माँ कमले!
गं गणपत्ये! माँ कमले!
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
Manisha Manjari
Loading...