Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2024 · 1 min read

🙅एक शोध🙅

🙅एक शोध🙅

प्रसंगवश या प्रयोजनवश याद करने वालों में अपनत्व की मात्रा “रेत में तेल” के बराबर होती है।

◆प्रणय प्रभात◆

1 Like · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Change is hard at first, messy in the middle, gorgeous at th
Change is hard at first, messy in the middle, gorgeous at th
पूर्वार्थ
भावनाओं की किसे पड़ी है
भावनाओं की किसे पड़ी है
Vaishaligoel
*सरस्वती जी दीजिए, छंद और रस-ज्ञान (आठ दोहे)*
*सरस्वती जी दीजिए, छंद और रस-ज्ञान (आठ दोहे)*
Ravi Prakash
फ़र्क़..
फ़र्क़..
Rekha Drolia
Speak with your work not with your words
Speak with your work not with your words
Nupur Pathak
भोर काल से संध्या तक
भोर काल से संध्या तक
देवराज यादव
हो गई है भोर
हो गई है भोर
surenderpal vaidya
कुछ शब्द
कुछ शब्द
Vivek saswat Shukla
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोशिश है खुद से बेहतर बनने की
कोशिश है खुद से बेहतर बनने की
Ansh Srivastava
ਮੁਕ ਜਾਣੇ ਨੇ ਇਹ ਸਾਹ
ਮੁਕ ਜਾਣੇ ਨੇ ਇਹ ਸਾਹ
Surinder blackpen
"मातृत्व"
Dr. Kishan tandon kranti
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
2320.पूर्णिका
2320.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
Paras Mishra
"प्रेम न पथभ्रमित होता है,, न करता है।"
*Author प्रणय प्रभात*
दूसरा मौका
दूसरा मौका
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मैथिली
मैथिली
Acharya Rama Nand Mandal
मतदान करो मतदान करो
मतदान करो मतदान करो
Er. Sanjay Shrivastava
সেই আপেল
সেই আপেল
Otteri Selvakumar
इंसान
इंसान
विजय कुमार अग्रवाल
प्रेम
प्रेम
Mamta Rani
कुछ दुआ की जाए।
कुछ दुआ की जाए।
Taj Mohammad
फितरत अमिट जन एक गहना
फितरत अमिट जन एक गहना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
A heart-broken Soul.
A heart-broken Soul.
Manisha Manjari
आज़ाद पैदा हुआ आज़ाद था और आज भी आजाद है।मौत के घाट उतार कर
आज़ाद पैदा हुआ आज़ाद था और आज भी आजाद है।मौत के घाट उतार कर
Rj Anand Prajapati
ज़िंदगी की कँटीली राहों पर
ज़िंदगी की कँटीली राहों पर
Shweta Soni
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
Ranjeet kumar patre
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
DrLakshman Jha Parimal
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
Neelam Sharma
Loading...