Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2022 · 3 min read

💥प्रेम की राह पर-69💥

ईश्वर साक्षी है।तुमसे कभी कोई फूहड़ संवाद किया हो।तो कहो।हमें तो लिखने भर से मतलब है।परन्तु इस नैराश्य का सहसा जन्म लेना बहुत जानलेवा है।अल्लमा इकबाल की शेर-माना कि तेरी दीद क़ाबिल नहीं हूँ मैं। तू मेरा शौक़ देख इंतिज़ार देख।।कोई बानगी नहीं किसी भी तरह की।जिससे उत्साहवर्द्धन होता।अब तो यही होगा-“उगलत निगलत पीर घनेरी, भई गति साँप छछूँदर केरी” और तुम इसी के योग्य हो और शायद मैं भी।नमूने कैसे लग रहे हैं।अभी दर्द का त्वरण और बढ़ाया जाएगा।जमकर बैठ जाना सीख लो।तुम्हें लगा कि यह कबूतर ख़ूब फँसा।तो सुनो अब तुम्हें उछाले जाने में बहुत आनन्द आएगा।यह दृश्य बहुत रमणीक होगा और प्रशंसा के योग्य भी।कोई तिकड़म भी देखी थी मेरी ओर से।तो बताओ वह कौन सी थी।कोई थी ही नहीं।नाबालिगों के चक्कर में उनके ही वचनों को महत्व दिया गया।फँसो जाओ।हमें क्या मतलब है?पर तुमने जो निर्णय लिया न तो ध्यान दिया मेरी दीद का और न ही शौक़ का।हाँ कोई अच्छा व्यापारी अथवा परम शिक्षित अध्यापक मिल गया।देखूँगा रूपा से कौन सा रूपकिशोर मिलेगा।चलो।आदमी यह समझता है कि संस्कृत पढ़ रहें हैं तो लल्लू होंगे।पूरा तिलिश्म अब शुरू होगा।सभी इल्मों की हल्की हल्की-हल्की बानगी तुम्हारे लिए बहुत है।मज़ा तो तब आएगा जब सिली सिली हवा औंदेगी।सब नूर-ए-करिश्मा ग़ायब हो जायेंगे।रहेगी तो तुम्हारे अवगुणों की बू।तुम मलिन हो और इतनी कि अब उनके सन्देश आ रहे हैं।कोई वैचारिक उद्बोधन दिया जा सकता था।कोई नहीं।वंचकपन से परिचय जो कराना था।यह काफ़िया काफी समय से लग रहा होगा।अब मेरा द्विजत्व देखो।जिसकी आग तुम्हें मन्द गति से जलायेगी।इसे अपने आचरण से ही तुमने निमंत्रित किया।अब यह मेरे ही कहने पर बुझेगी और मैं इस विषय के तारतम्य में एकशब्द भी नहीं बोलूँगा।एक मूकदर्शक की तरह तुम्हें जलता देखूँगा।कोई सहयोग भी नहीं मिलेगा।यही तो है सांसारिक प्रेम का अस्त होना।ईश्वरीय प्रेम तो बहुआयामी होता है।उसमें कितना भी बुरा हो तो भी भला ही होगा।मैं जानता हूँ कि यदि तुम्हें ईश्वर बना दिया जाए तो सबसे ज़्यादा दण्ड का हक़दार मैं ही हूँगा।परन्तु तुम्हें कोई ईश्वर नहीं बनाएगा।तुम्हारे कृत्य एकदम लापरवाह हैं।”दीपशिखा सम युवति तन, मनजनि होसि पतंग”तो सुनो न तो तुम दीपशिखा थीं और न ही मेरे मनपतंगे के होश उड़े।मेरा राग तुमने सुना।अपना राग तुम सुना न सकी।बस इतना भर है।क्यों कि किताबी ज्ञान को शिक्षा का व्यापार ही कहा जायेगा।पुरानी किताबों को सस्ते में खरीद कर कुछ विशेष करने की कला बहुत आती है तुम्हें।तो इन फूहड किताबों को पढ़कर कुछ नहीं मिलेगा।सबसे बड़ी बात तो यह कि अपनी मज़ाक तो तुम्हें ख़ूब जँची।दूसरे की मज़ाक का भी मज़ाक उड़ाया जा रहा है।ज़्यादा निर्दोष न बना जाए।अब उसके लिए तैयार हो जाओ।जिसको तुमने पहले भी जिया है।अब तुहार कबूतर से उड़ जईहें।कोई न बचइहें।अब तो झेलो उस दरिद्रता का आश्रय जिसे कोई रूपकिशोर तुम्हें देगा।समझी रूपा।अपनी आदतों को संभाल कर रखना।इनमें अपने घटिया आचरण का पर्दा भी लगा लेना।तुम निरन्तर बुदबुदाती रहोगी और कोई तुरुप का पत्ता बचा है तो उसे भी चला लो।कोई मंजिल बची हो तो उसे भी पूरा कर लो।तुम उस अन्धड़ में फँस चुके हो।जिसमें तुम्हारा उड़ जाना भी निश्चित है।उस मिलने वाले असीम से ससीम हो चुकी।क्या कोई अलग विद्या आती है।तो कहो उसका निर्वचन।कोई उद्योग करना आया।नहीं आया।तो फिर खरी खरी सुनने की आदत भी डालनी होंगी।हमें तो अपनी जिन्दगी काटनी है।वह भी उस ईश्वर की कृपा से कटी है और कट जाएगी।तुम अपनी सोचो।हमें तो लिखने से मतलब है।जैसे संगीत में रियाज़ होता है तो लेखन भी इससे कहाँ वंचित रहने वाला है।यदि आपका मानना यह हो कि मैं अपने जीवन में फूहड़पन शामिल करूँगा,बिल्कुल नहीं।दूषित भोजन शामिल करूँगा।बिल्कुल नहीं।यह सब मिलने पर ही ख़त्म होगा।बिना विचारों के जानने पर कोई प्रगति नहीं होगी।जानो समझो अच्छा लगे तो ठहरो।न तो तुम्हारा कोई परिवर्तन होगा और न मेरा।उचित जान पड़े तो स्वीकार करो नहीं तो चुनो अपना रास्ता।तुम अपने रास्ते हम अपने रास्ते।इसमें क्या घाटा है?नहीं तो समझ लेना।कोई भी विश्वासघातक निर्णय बहुत क्षतिदायक होगा आपके लिए।इसलिए एक-एक कदम सुरक्षित उठाना।देख लेना।खींच लूँगा स्वतः ही तुम्हारे स्थान से।नमूने कैसे मिल रहे हैं।जय श्री राम।
©®अभिषेक पाराशर

Language: Hindi
72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन की बातें , दिल क्यों सुनता
मन की बातें , दिल क्यों सुनता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल - राना लिधौरी
ग़ज़ल - राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रेम
प्रेम
विमला महरिया मौज
प्रेम की अनुपम धारा में कोई कृष्ण बना कोई राधा
प्रेम की अनुपम धारा में कोई कृष्ण बना कोई राधा
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
मेरा परिचय
मेरा परिचय
radha preeti
आब दाना
आब दाना
Satish Srijan
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुक्त परिंदे पुस्तक समीक्षा
मुक्त परिंदे पुस्तक समीक्षा
लालबहादुर चौरसिया 'लाल'
मुफ़लिसी एक बद्दुआ
मुफ़लिसी एक बद्दुआ
Dr fauzia Naseem shad
दिल का दर्द आँख तक आते-आते नीर हो गया ।
दिल का दर्द आँख तक आते-आते नीर हो गया ।
Arvind trivedi
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
Anand Kumar
The Huge Mountain!
The Huge Mountain!
Buddha Prakash
तेरे दिल में मेरे लिए जगह खाली है क्या,
तेरे दिल में मेरे लिए जगह खाली है क्या,
Vishal babu (vishu)
'मौन अभिव्यक्ति'
'मौन अभिव्यक्ति'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
इश्क़
इश्क़
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नन्हीं बाल-कविताएँ
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
"लाइलाज"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त रहते सम्हल जाओ ।
वक्त रहते सम्हल जाओ ।
Nishant prakhar
💐प्रेम कौतुक-467💐
💐प्रेम कौतुक-467💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"कुछ जगह ऐसी होती हैं
*Author प्रणय प्रभात*
आसान नहीं होता
आसान नहीं होता
Rohit Kaushik
मातृत्व दिवस खास है,
मातृत्व दिवस खास है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ब्याह  रचाने चल दिये, शिव जी ले बारात
ब्याह रचाने चल दिये, शिव जी ले बारात
Dr Archana Gupta
सभ प्रभु केऽ माया थिक...
सभ प्रभु केऽ माया थिक...
मनोज कर्ण
कुत्ते (तीन कुंडलियाँ)*
कुत्ते (तीन कुंडलियाँ)*
Ravi Prakash
Few incomplete wishes💔
Few incomplete wishes💔
Vandana maurya
मज़दूर
मज़दूर
Shekhar Chandra Mitra
"अतितॄष्णा न कर्तव्या तॄष्णां नैव परित्यजेत्।
Mukul Koushik
Loading...