Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Dec 2022 · 1 min read

💐💐ज्ञानस्य अभिमानं नरकेषु प्रवेशक:💐💐

यदि भवतः उद्देश्य: चेतन-तत्वस्य तु ध्यानं भजनं नामजपः च आदिभि: करणेन जड़स्य महत्वं न भविष्यति।ध्येयं सर्वदा परमात्मन: एव भवेत्।प्राप्ति: चेतनस्य कुर्वन्तु।नामजपः जड़: न।नाम च नामी च भगवतः एकता।भगवतः भूत्वा भगवतः भजतु।इत्थं जड़ता किं आगमिष्यति।’मीराबाई’इत्यस अपि जड़ता नष्ट: अभवत्।एतस्य शरीरस्य जड़ता नष्ट: भवति यः यत् अशुद्ध: वस्तु,विष्ठा निर्माणकर्त्री ‘मशीन’इति।अहं ज्ञानिन: न, ज्ञानस्य अभिमानस्य निन्दा करोति।ज्ञानस्य अभिमानं नरकेषु प्रवेशक:।

©®अभिषेक: पाराशरः’आनन्द’

Language: Sanskrit
140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3. कुपमंडक
3. कुपमंडक
Rajeev Dutta
बरसात के दिन
बरसात के दिन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ज्योतिष विज्ञान एव पुनर्जन्म धर्म के परिपेक्ष्य में ज्योतिषीय लेख
ज्योतिष विज्ञान एव पुनर्जन्म धर्म के परिपेक्ष्य में ज्योतिषीय लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम बदल जाओगी।
तुम बदल जाओगी।
Rj Anand Prajapati
"सुनो तो"
Dr. Kishan tandon kranti
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
manjula chauhan
2559.पूर्णिका
2559.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
साहित्य का पोस्टमार्टम
साहित्य का पोस्टमार्टम
Shekhar Chandra Mitra
घड़ी
घड़ी
SHAMA PARVEEN
"*पिता*"
Radhakishan R. Mundhra
💐प्रेम कौतुक-513💐
💐प्रेम कौतुक-513💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कौन सुनेगा बात हमारी
कौन सुनेगा बात हमारी
Surinder blackpen
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
*नियति*
*नियति*
Harminder Kaur
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
पूर्वार्थ
सारे गुनाहगार खुले घूम रहे हैं
सारे गुनाहगार खुले घूम रहे हैं
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
Ranjeet kumar patre
दुआ पर लिखे अशआर
दुआ पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
*शिक्षक जी को नमन हमारा (बाल कविता)*
*शिक्षक जी को नमन हमारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मन और मस्तिष्क
मन और मस्तिष्क
Dhriti Mishra
युगों    पुरानी    कथा   है, सम्मुख  करें व्यान।
युगों पुरानी कथा है, सम्मुख करें व्यान।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ये कैसे आदमी है
ये कैसे आदमी है
gurudeenverma198
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
Loading...